प्रथम पेज नागर जी भजन

नागर जी भजन

Kamal Kishor Ji Nagar Bhajan

हे पूरण परमात्मा विश्व बने धर्मात्मा नागरजी भजन लिरिक्स

0
हे पूरण परमात्मा, विश्व बने धर्मात्मा, सुखी रहे सब आत्मा, सुखी रहे सब आत्मा।। एक मेरी यही प्रार्थना, दुखी ना हो कोई आत्मा, एक मेरी यही प्रार्थना, दुखी ना हो कोई...

मैं तो दौड़ी दौड़ी मंदरिया में जाऊं ए माय भजन लिरिक्स

0
मैं तो दौड़ी दौड़ी मंदरिया में, जाऊं ए माय, सपना में आयो सांवरियो, म्हारा सपना में आयो सांवरियो।। घर में नी लागे मन बाहर लागे, दौड़ दौड़ मन सत्संग...

नौकरी पक्की करो गोपाल मेरी नोकरी पक्की करो

0
नौकरी पक्की करो, गोपाल मेरी नोकरी पक्की करो।। कभी लगावे कभी भगावे, कभी लगावे कभी भगावे, कभी रुलावे कभी हंसावे, कभी रुलावे कभी हंसावे, कब तक मैं भटका करूँ, गोपाल मेरी...

मेरी प्रीत ना छूटेगी नंदलाला से भजन लिरिक्स

0
मेरी प्रीत ना छूटेगी नंदलाला से, नंदलाला से मुरली वाला से, नंदलाला से मुरली वाला से, मेरी प्रीत ना छूटेगी नन्दलाला से।। कोई रोक के बताये, कोई टोक के...

म्हारे एक बड़ो यो अरमान गुरु म्हारो समरत है लिरिक्स

0
म्हारे एक बड़ो यो अरमान, की गुरु म्हारो समरत है, समरत है रे गुरु अमरत है, म्हारो एक बड़ो यो अरमान, की गुरु म्हारो समरत है।। नहीं जाणु मैं...

गोपालो झलके अंखियन में नागर जी भजन लिरिक्स

0
गोपालो झलके अंखियन में, नन्दलालो झलके अंखियन में।। मोर मुकुट पीताम्बर सोहे, मोर मुकुट पीताम्बर सोहे, वो घूंघर वाले बालों में, वो घूंघर वाले बालों में, गोपालो झलके अँखियन में, नन्दलालो...

हरी भजलो हरी भजलो हरी भजने का मौका है लिरिक्स

0
हरी भजलो हरी भजलो, हरी भजने का मौका है, अभी भजलो सभी भजलो, अभी भजने का मौका है, हरी भजलों हरी भजलों, हरी भजने का मौका है।। जतन करके रटन...

बड़ी दीन दुखी हूँ अनाथ महा यह दासी पड़ी शरणे तेरे

1
बड़ी दीन दुखी हूँ अनाथ महा, यह दासी पड़ी शरणे तेरे।। तर्ज - श्यामा आन बसो वृन्दावन में। सब स्वारथ मित्र से विश्व भरा, सब स्वारथ मित्र से...

आज वृन्दावन रास रच्यो है मैं भी देखन जाउंगी लिरिक्स

1
आज वृन्दावन रास रच्यो है, मैं भी देखन जाउंगी।। बाबा नन्द का कुंवर कन्हैया, बाबा नन्द का कुंवर कन्हैया, बाबा नन्द का कुंवर कन्हैया, उन संग रास रचाऊँगी, आज वृंदावन...

बिके माथा साटे ओ म्हारी माँ या चुनर सतगुरु की

0
बिके माथा साटे ओ म्हारी माँ, या चुनर सतगुरु की।। चुनर ओढ़ूँ तो कुटुंब लजाए, चुनर ओढ़ूँ तो कुटुंब लजाए, नहीं तो ओढ़ूँ तो मन ललचाए, या चुनर सतगुरु...

फ़िल्मी तर्ज भजन

कृष्ण भजन लिरिक्स

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।