म्हारे एक बड़ो यो अरमान गुरु म्हारो समरत है लिरिक्स

म्हारे एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है,
समरत है रे गुरु अमरत है,
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



नहीं जाणु मैं तो जनम मरण को,

नहीं जाणु मैं तो स्वर्ग नरक को,
म्हारे नहीं चौरासी को भान,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



नहीं जाणु मैं तो वेद पुराणन,

नहीं बाची मैंने गीता रामायण,
म्हारे नहीं शाश्त्र को ज्ञान,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



नहीं जाणु मैं तो नेम धरम को,

कर सकी मैं तो तीरथ बरत को,
म्हारे नहीं खर्चन को दान,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



लोग कहे के तू क्यों इतरावे,

कई तो पायो जो तू फूल्यो नी समावे,
वा को कई तो करूँ रे बखान,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



नहीं भावे म्हने कोई आडम्बर,

नहीं जाणु मैं तो जादू ने मंतर,
म्हारे एक ही मंत्र महान,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



रोके से भी नहीं रुक पावे,

घणी तो छुपाऊं पर छुप नहीं पावे,
म्हारा बस में नहीं या जिबान,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



नहीं म्हारे खेती ने नहीं म्हारे पाती,

नहीं म्हारे संगी ने नहीं म्हारे साथी,
म्हारे जनम मरण को साथ,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



जहर प्याला ज्याने अमृत बनाया,

साँप टिपारा ज्याने अनत बनाया,
कई जाणे यो सकल जहान,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



कोई यूँ कहे के तने नाग डसेगा,

कोई यूँ कहे के तने जहर चढ़ेगा,
म्हारे शरद पूनम को चाँद,
की गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



कोई यूँ बतावे बेमौत मरेगा,

कोई यूँ डरावे थने जम पकड़ेगा,
म्हारो कई तो करेगा जमराज,
जब गुरु म्हारो समरत है।
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।



म्हारे एक बड़ो यो अरमान,

की गुरु म्हारो समरत है,
समरत है रे गुरु अमरत है,
म्हारो एक बड़ो यो अरमान,
की गुरु म्हारो समरत है।।

स्वर – प्रभु प्रिया जी।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

जनम जनम का साथ हैं गुरुदेव तुम्हारा भजन लिरिक्स

जनम जनम का साथ हैं गुरुदेव तुम्हारा भजन लिरिक्स

जनम जनम का साथ हैं, गुरुदेव तुम्हारा, गुरुदेव तुम्हारा, अगर ना मिलते हमको सतगुरु, लेते जनम दोबारा, जनम जनम का साथ है, गुरुदेव तुम्हारा, गुरुदेव तुम्हारा।। तर्ज – जनम जनम…

मैं तो दौड़ी दौड़ी मंदरिया में जाऊं ए माय भजन लिरिक्स

मैं तो दौड़ी दौड़ी मंदरिया में जाऊं ए माय भजन लिरिक्स

मैं तो दौड़ी दौड़ी मंदरिया में, जाऊं ए माय, सपना में आयो सांवरियो, म्हारा सपना में आयो सांवरियो।। घर में नी लागे मन बाहर लागे, दौड़ दौड़ मन सत्संग भागे,…

गुरु से लगन कठिन है भाई गुरुदेव भजन लिरिक्स

गुरु से लगन कठिन है भाई गुरुदेव भजन लिरिक्स

गुरु से लगन कठिन है भाई, लगन लगाया बिना काज नहीं सरिये, जीव प्रलय होय जाई, गुरु से लगन कठिंन है भाई।। स्वाति बूँद को रटे पपैया, पिया पिया रट…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे