गोपालो झलके अंखियन में नागर जी भजन लिरिक्स

गोपालो झलके अंखियन में,
नन्दलालो झलके अंखियन में।।



मोर मुकुट पीताम्बर सोहे,

मोर मुकुट पीताम्बर सोहे,
वो घूंघर वाले बालों में,
वो घूंघर वाले बालों में,
गोपालो झलके अँखियन में,
नन्दलालो झलके अँखियन में।।



हाथ मुरलिया ने काँधे कमलिया,

हाथ मुरलिया ने काँधे कमलिया,
और कुण्डल झलके कानो में,
और कुण्डल झलके कानो में,
गोपालो झलके अँखियन में,
नन्दलालो झलके अँखियन में।।



बाग़ बगीचा कलियाँ देखि,

बाग़ बगीचा कलियाँ देखि,
और नजरे डाली फूलों में,
और नजरे डाली फूलों में,
गोपालो झलके अँखियन में,
नन्दलालो झलके अँखियन में।।



जित देखूं उत गोपालो है,

जित देखूं उत गोपालो है,
वो गोपी गाया ग्वालों में,
वो गोपी गाया ग्वालों में,
गोपालो झलके अँखियन में,
नन्दलालो झलके अँखियन में।।



कान्हो ही कान्हो बस गयो मन में,

कान्हो ही कान्हो बस गयो मन में,
और कुछ नहीं आवे ख्यालों में,
और कुछ नहीं आवे ख्यालों में,
गोपालो झलके अँखियन में,
नन्दलालो झलके अँखियन में।।



गाया बछड़ा सब कोई बोले,

गाया बछड़ा सब कोई बोले,
और भंवरा बोले बगियन में,
और भंवरा बोले बगियन में,
गोपालो झलके अँखियन में,
नन्दलालो झलके अँखियन में।।



गली गली में शोर मच्यो है,

गली गली में शोर मच्यो है,
और चर्चा हो रही गलियन में,
और चर्चा हो रही गलियन में,
गोपालो झलके अँखियन में,
नन्दलालो झलके अँखियन में।।



गोपालो झलके अंखियन में,

नन्दलालो झलके अंखियन में।।

स्वर – संत श्री कमल किशोर जी नागर।


 

इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

अमलीड़ो बाबो अम्लिडो राजस्थानी भजन लिरिक्स

अमलीड़ो बाबो अम्लिडो राजस्थानी भजन लिरिक्स

अमलीड़ो अम्लिडो अम्लिडो अम्लिडो बाबो अम्लिडो बाबो अमलीड़ो, भक्ता ने लागे बालो, भक्ता ने लागे प्यारो, म्हारो राम रुणिचे वालो, बाबो भोलो अमलीड़ो, अम्लिडो अम्लिडो।। अम्लिडो अम्लिडो अम्लिडो अम्लिडो, भोलो…

जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा हंस जब जब उड़ा भजन लिरिक्स

जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा

जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा, हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा। काल से बच ना पाएगा छोटा बड़ा, हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा।। ठाट सारे पड़े…

चरणो में मन लगाके दीपक तेरा सजाके भजन लिरिक्स

चरणो में मन लगाके दीपक तेरा सजाके भजन लिरिक्स

चरणो में मन लगाके, दीपक तेरा सजाके, पूजा करूँगा तेरी, वदँन करूँ माँ तेरी।। तर्ज – दिल मे तुझे बिठाके। हे मँदाकिनी मइया तेरी, महिमा अपरम्पार, महिमा का तेरी, माता…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “गोपालो झलके अंखियन में नागर जी भजन लिरिक्स”

  1. Bahut hi badiya lga hame bhajan isse bahut hi prerna multi h or hamare parivar Bali ko bhi bahut achchha lga man ko bahut Shanti multi h all family member

    Reply

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे