प्रथम पेज लक्खा जी भजन

लक्खा जी भजन

Lakkha Ji Bhajan

आई रे हनुमान जयंती आई भजन लिरिक्स

आई रे हनुमान जयंती आई, आयी रे हनुमान जयंती आई, बल बुध्दि और ज्ञान के दाता, अति बलवान जगत विख्याता, जिसने भक्ति राम की पाई, आयी रे हंनुमान जयंती...

बिगड़ी बनाने वाली कष्ट मिटाने वाली भजन लिरिक्स

बिगड़ी बनाने वाली, कष्ट मिटाने वाली, दुनिया में जगदंबे माँ, अपना बनाने वाली, भाग्य जगाने वाली, बस एक जगदंबे माँ, शेरावाली का आज जगराता है, अम्बे रानी का आज जगराता है।।दूर...

गोपाल सूना सूना तुझ बिन ये ब्रज है सारा भजन लिरिक्स

गोपाल सूना सूना, तुझ बिन ये ब्रज है सारा, गोपाल सूना सूना।। दोहा - याद में तेरी कृष्ण मुरारी, जोगन हो गई राधा प्यारी, ढूंढ रही पनघट पे तुमको, रो...

श्याम मुरली तो बजाने आओ भजन लिरिक्स

श्याम मुरली तो बजाने आओ, रूठी राधा को मनाने आओ।।ढूँढती है तुम्हे ब्रज की बाला, रास मधुबन में रचाने आओ, रास मधुबन में रचाने आओ, श्याम मूरली तो...

बंगला दिया गाड़ी दी कारोबार दिया भजन लिरिक्स

बंगला दिया गाड़ी दी, कारोबार दिया, दौलत दी शोहरत दी, अच्छा परिवार दिया, छोड़ी नही कमी मैया, मेहर बरसाने में, किस्मत वाला हूँ ये, चर्चा है ज़माने में, फिर भी रहूँ मैं...

म्हारा बाबा हनुमान म्हारा दाता हनुमान भजन लिरिक्स

म्हारा बाबा हनुमान, म्हारा दाता हनुमान, ऐसो वर तो म्हाने दीजो, धरूँ तुम्हारो ध्यान।।बाजरे की रोटी दीजो, ऊपर लुन्यो घी, ओढवाने गुदड़ दीजो, घणो पड़ेलो शीत, म्हारा बाबा हनूमान, म्हारा दाता हनुमान, ऐसो...

मैया तेरे नवराते हैं मैं तो नाचू छम छमा छम भजन...

मैया तेरे नवराते हैं, मैं तो नाचू छम छमा छम, छमाछम छमाछम छमाछम, मैया तेरे जगराते हैं, मैं तो गाऊं तेरे गुण, छमाछम छमाछम छमाछम, तेरी धुन में मगन, मेरा झूम...

है कौन बड़ा तुमसे मैया ओ त्रिभुवन की प्रतिपाली भजन लिरिक्स

है कौन बड़ा तुमसे मैया, ओ त्रिभुवन की प्रतिपाली। तर्ज - जहाँ डाल डाल पर। श्लोक - नमामि दुर्गे, नमामि काली, नमामि देवी महेश्वरी, नमामि साक्षात, परब्रम्ह परमेश्वरी, नमामि माता सुरेश्वरी। है...

कोहिनूर का जलवा है जन्नत का नजारा है भजन लिरिक्स

कोहिनूर का जलवा है, जन्नत का नजारा है, कश्मीर की वादी में, शेरोवाली का द्वारा है।। तर्ज - एक प्यार का नगमा है। दोहा - ना इसका है ना...

गिरधर मेरे मौसम आया धरती के श्रृंगार का भजन लिरिक्स

गिरधर मेरे मौसम आया, धरती के श्रृंगार का। दोहा - छाई सावन की है बदरिया, और ठंडी पड़े फुहार, जब श्याम बजाई बांसुरी, झूलन चली ब्रजनार। गिरधर मेरे मौसम आया, धरती...

कृष्ण भजन लिरिक्स

फ़िल्मी तर्ज भजन

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।