जय गुरुदेव दयानिधि दीनन हितकारी गुरुदेव आरती

जय गुरुदेव दयानिधि,
दीनन हितकारी,
स्वामी भक्तन हितकारी,
जय जय मोह विनाशक,
भव बंधन हारी,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



ब्रह्मा विष्णु सदा शिव,

गुरु मूरति धारी,
वेद पुराण बखानत,
गुरु महिमा भारी,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



जप तप तीरथ संयम,

दान बिबिध दीजै,
गुरु बिन ज्ञान न होवे,
कोटि जतन कीजै,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



माया मोह नदी जल,

जीव बहे सारे,
नाम जहाज बिठा कर,
गुरु पल में तारे,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



काम क्रोध मद मत्सर,

चोर बड़े भारे,
ज्ञान खड्ग दे कर में,
गुरु सब संहारे,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



नाना पंथ जगत में,

निज निज गुण गावे,
सबका सार बताकर,
गुरु मारग लावे,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



पाँच चोर के कारण,

नाम को बाण दियो,
प्रेम भक्ति से सादा,
भव जल पार कियो,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



गुरु चरणामृत निर्मल,

सब पातक हारी,
बचन सुनत तम नाशे,
सब संशय हारी,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



तन मन धन सब अर्पण,

गुरु चरणन कीजै,
ब्रह्मानंद परम पद,
मोक्ष गति लीजै,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



श्री सतगुरुदेव की आरती,

जो कोई नर गावै,
भव सागर से तरकर,
परम गति पावै,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।



जय गुरुदेव दयानिधि,

दीनन हितकारी,
स्वामी भक्तन हितकारी,
जय जय मोह विनाशक,
भव बंधन हारी,
ॐ जय जय जय गुरुदेव हरे।।

– भजन प्रेषक –
पँ. दीपक कृष्ण शर्मा
7223099914


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

श्री कोटड़ी श्याम चारभुजा चालीसा लिरिक्स

श्री कोटड़ी श्याम चारभुजा चालीसा लिरिक्स

श्री कोटड़ी श्याम चारभुजा चालीसा लिरिक्स, दोहा – छैल छबीले श्याम की, शोभा बड़ी अनूप, रूप राशी वे गुण सदन, बने कोटड़ी भूप। धन्य धन्य यह कोटड़ी, जहाँ विराजे श्याम,…

हे राजा राम तेरी आरती उतारूँ श्री राम आरती

हे राजा राम तेरी आरती उतारूँ श्री राम आरती

हे राजा राम तेरी आरती उतारूँ, आरती उतारूँ प्यारे तुमको मनाऊँ, अवध बिहारी तेरी आरती उतारूँ, हे राजा राम तेरी आरती उतारूँ II कनक सिहासन रजत जोड़ी, दशरथ नंदन जनक…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

2 thoughts on “जय गुरुदेव दयानिधि दीनन हितकारी गुरुदेव आरती”

  1. ओम जय गुरुदेव की आरती लिखित में

    Reply

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे