प्रथम पेज प्रदीप के भजन हमने जग की अजब तस्वीर देखी भजन लिरिक्स

हमने जग की अजब तस्वीर देखी भजन लिरिक्स

हमने जग की अजब तस्वीर देखी,
एक हँसता है दस रोते हैं,
ये प्रभु की अद्भुत जागीर देखी,
एक हँसता है दस रोते हैं।।



हमे हँसते मुखड़े चार मिले,

दुखियारे चेहरे हज़ार मिले,
यहाँ सुख से सौ गुनी पीड़ देखी,
एक हँसता है दस रोते हैं,
हमने जग की अजब तसवीर देखी,
एक हँसता है दस रोते हैं।।



दो एक सुखी यहाँ लाखों में

आंसू है करोड़ों आँखों में
हमने गिन गिन हर तकदीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं
हमने जग की अजब तसवीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं।।



कुछ बोल प्रभु ये क्या माया,

तेरा खेल समझ में ना आया, 
हमने देखे महल रे कुटीर देखी, 
एक हँसता है दस रोते हैं,
हमने जग की अजब तसवीर देखी, 
एक हँसता है दस रोते हैं।।



हमने जग की अजब तस्वीर देखी,

एक हँसता है दस रोते हैं,
ये प्रभु की अद्भुत जागीर देखी,
एक हँसता है दस रोते हैं।।

लेखक – कवि श्री प्रदीप जी।
प्रेषक – Ashutosh trivedi
7869697758


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।