प्रथम पेज दुर्गा माँ भजन यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ मत पूछो कहाँ कहाँ है सँतोषी माँ

यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ मत पूछो कहाँ कहाँ है सँतोषी माँ

यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ,
मत पूछो कहाँ कहाँ,
है सँतोषी माँ,
अपनी सँतोषी माँ,
अपनी सँतोषी माँ,
बड़ी मन भावन,
निर्मल पावन,
प्रेम की ये प्रतिमा,
अपनी सँतोषी माँ,
अपनी सँतोषी माँ।।

इस देवी की दया का हमने,
अद्भुत फल देखा,
पल मे पलट दे ये भक्तो की,
बिगड़ी भाग्य रेखा, 
बड़ी बलसाली ममता वाली
ज्योति पुंज ये माँ,
अपनी सँतोषी माँ,
अपनी सँतोषी माँ।।

ये मैया तू भाव की भूखी,
भक्ति से भावे, हो भक्ति से भावे,
हो प्रेम पूर्वक जो कोई पूजे,
मन वांछित पावे,
मंगल करनी चिंता हरनी,
दुःख भंजन ये माँ,
अपनी सँतोषी माँ,
अपनी सँतोषी माँ।।

यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ,
मत पूछो कहाँ-कहाँ,
है सँतोषी माँ,
अपनी सँतोषी माँ,
अपनी सँतोषी माँ,
बड़ी मन भावन,
निर्मल पावन,
प्रेम की ये प्रतिमा,
अपनी सँतोषी माँ,
अपनी सँतोषी माँ।।

कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।