कोई लाख करे चतुरायी हिंदी प्रदीप भजन लिरिक्स

कोई लाख करे चतुरायी,
करम का लेख मिटे ना रे भाई,
जरा समझो इसकी सच्चाई रे,
करम का लेख मिटे ना रे भाई।।



इस दुनिया में,

भाग्य के आगे,
चले ना किसी का उपाय,
कागद हो तो,
सब कोई बांचे,
करम ना बांचा जाए,
इस दिन इसी,
किस्मत के कारण,
वन को गए थे रघुराई रे,
करम का लेख मिटे ना रे भाई।।



काहे मनवा धीरज खोता,

काहे तू नाहक रोए,
अपना सोचा कभी ना होता,
भाग्य करे तो होए,
चाहे हो राजा चाहे भिखारी,
ठोकर सभी ने यहा खायी रे,
करम का लेख मिटे ना रे भाई।।



कोई लाख करे चतुरायी,

करम का लेख मिटे ना रे भाई,
जरा समझो इसकी सच्चाई रे,
करम का लेख मिटे ना रे भाई।।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

तेरी दो दिन की जिन्दगानी प्राणी भजले नाम हरि का

तेरी दो दिन की जिन्दगानी प्राणी भजले नाम हरि का

तेरी दो दिन की जिन्दगानी, प्राणी भजले नाम हरि का, है ये दुनिया आनी जानी, प्राणी भजले नाम हरि का, तू ने मैली चादर करदी, सर पे पाप की गठरी…

शबरी बेचारी है प्रेम की मारी है भजन लिरिक्स

शबरी बेचारी है प्रेम की मारी है भजन लिरिक्स

शबरी बेचारी है, प्रेम की मारी है, स्वागत में रघुवर के, सुध बुध बिसारी है, लक्ष्मण राजा राम, मेरे घर में पधारे।। तर्ज – अब न छिपाऊँगा। कबसे बैठी मैं…

काम आएगा प्रभु का भजन करले उसका भजन लिरिक्स

काम आएगा प्रभु का भजन करले उसका भजन लिरिक्स

काम आएगा प्रभु का भजन, जिसने दिया है तुझे, प्यारा मानव जनम, करले उसका भजन, करले उसका भजन।। तर्ज – हम तुम्हारे है तुम्हारे सनम। तेरी मुक्ति का साधन यही…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे