ये मोरछड़ी बाबा की जब सिर पे है लगती भजन लिरिक्स

ये मोरछड़ी बाबा की,
जब सिर पे है लगती,
चलता है इसका जादू,
भक्तों के दुःख हरती,
ये मोरछडी बाबा की।।

तर्ज – आ जाओ भोले बाबा।



कोई संकट हो तो इसका,

झाड़ा तुम लगवा लो,
करती है करिश्मा भारी,
चाहे तुम आज़मा लो,
बाबा की मोरछड़ी में,
सकलाई बड़ी रहती,
चलता है इसका जादू,
भक्तों के दुःख हरती,
ये मोरछडी बाबा की।।



मंदिर का ताला खोला,

ये मोरछड़ी ऐसी,
सब दूर करे ये बाधा,
हो चाहे भी जैसी,
उसका ये भाग्य बदल दे,
जिस पर है ये पड़ती,
चलता है इसका जादू,
भक्तों के दुःख हरती,
ये मोरछडी बाबा की।।



बाबा के संग खड़ी ये,

इतरावे लहरावे,
‘चोखानी’ बड़भागी ही,
इसका झाड़ा पावे,
भक्तों की बिगड़ी बातें,
हर हाल में बनती,
चलता है इसका जादू,
भक्तों के दुःख हरती,
ये मोरछडी बाबा की।।



ये मोरछड़ी बाबा की,

जब सिर पे है लगती,
चलता है इसका जादू,
भक्तों के दुःख हरती,
ये मोरछडी बाबा की।।

Singer – Adhistha & Anushka


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें