तुझे चलना है कोरोना योद्धाओ को समर्पित

चाहे धूप हो या छाओं हो,
चाहे शहर हो या गाओं हो,
हो राह में कठिनाइयां,
हों हर तरफ तनहाइयाँ,
मंज़िल दिखे या ना दिखे,
शोहरत मिले या ना मिले,
मुश्किल भरे हर हाल में,
तुझे ढलना है,
तुझे चलना है,
तुझे चलना हैं।।



माना मुश्किल हालात हैं,

रोते हुए जज़्बात है,
एक दूसरे का गर साथ है,
तो जीत की क्या बात है,
हारेगा न तो हौसला,
तू तय करेगा फासला,
हाथों को थाम कर हाथ में,
सम्हलना है,
तुझे चलना हैं,
तुझे चलना हैं।।



चाहे धूप हो या छाओं हो,

चाहे शहर हो या गाओं हो,
हो राह में कठिनाइयां,
हों हर तरफ तनहाइयाँ,
मंज़िल दिखे या ना दिखे,
शोहरत मिले या ना मिले,
मुश्किल भरे हर हाल में,
तुझे ढलना है,
तुझे चलना है,
तुझे चलना हैं।।

Lyrics & Composition – Dr. Rajeev Jain
8136086301


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

सुणो म्हारी मावड़ी जनक जी री डावड़ी सीताजी भजन

सुणो म्हारी मावड़ी जनक जी री डावड़ी सीताजी भजन

सुणो म्हारी मावड़ी, जनक जी री डावड़ी, सब जीवड़ां रो दुःख दूर कर दे, म्हां री थोड़ी सी आ अरज, मंजूर कर दे।। करो इत्ती पूर्ती, कृपा री थे मूर्ति,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे