रहते हो आप हे बजरंग राम जी के पाँव में भजन लिरिक्स

रहते हो आप हे बजरंग,
राम जी के पाँव में,
हमको भी चरणों से,
लगाए रखना,
हमको भी चरणों से,
लगाए रखना,
हनुमान, हनुमान,
हनुमान, हनुमान।।

तर्ज – ले तो आए हो।



सागर को फांदे,

पल में लंका जलाए,
माता सीता का पता,
जा कर लगाए,
तेरे सिवा, तेरे सिवा,
कोई वीर नहीं,
रहते हो मात सिया की,
ममता की छाव में,
हमको भी चरणों से,
लगाए रखना,
हनुमान, हनुमान,
हनुमान, हनुमान।।



लक्ष्मण के प्राणो पे,

जो विपदा थी आई,
पर्वत उठा के लाए,
बूटी पिलाई,
जाग उठे, जाग उठे,
देखो वीर बलि,
जान लगा दी तुमने,
भक्ति के दाव में,
भक्ति में हमको भी,
लगाए रखना,
हनुमान, हनुमान,
हनुमान, हनुमान।।



सीने में जिनके,

सियाराम जी बसते है,
मंगल मूर्ति सदा,
मंगल ही करते है,
करता रहे, करता रहे,
ये ‘विजय’ तेरा ध्यान,
रखना सेवा को बजरंग,
तेरी ही पनाह में,
भक्ति की ज्योत,
जलाए रखना,
हनुमान, हनुमान,
हनुमान, हनुमान।।



रहते हो आप हे बजरंग,

राम जी के पाँव में,
हमको भी चरणों से,
लगाए रखना,
हमको भी चरणों से,
लगाए रखना,
हनुमान, हनुमान,
हनुमान, हनुमान।।

Singer – Sewa Singh Ji


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें