निकुंज मे विराजे घनश्याम राधे राधे भजन लिरिक्स

निकुंज मे विराजे घनश्याम राधे राधे भजन लिरिक्स

निकुंज मे विराजे घनश्याम राधे राधे

निकुंज मे विराजे घनश्याम राधे राधे,
श्याम राधे राधे घनश्याम राधे राधे ,
निकुंज मे बिराजे घनश्याम राधे राधे॥॥



मुरली वाले की मेहफिल सजी है,

बंसी वाले की मेहफिल सजी है,
कमलि वाले की मेहफिल सजी है,
निकुंज मे बिराजे घनश्याम राधे राधे॥॥



उनकी रहमत का झूमर सजा है,

हमको महसूस ये हो रहा है,
तेरी मेहफिल मे करुणा भरी है,
निकुंज मे बिराजे घनश्याम राधे राधे॥॥



मेरी झोली भी सरकार भरदो,

आपने सबकी झोली भरी है,
निकुंज मे बिराजे घनश्याम राधे राधे॥॥
निकुंज मे बिराजे घनश्याम राधे राधे



निकुंज मे बिराजे घनश्याम राधे राधे,

श्याम राधे राधे घनश्याम राधे राधे ,
निकुंज मे बिराजे घनश्याम राधे राधे॥॥


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें