माता और पिता में ही भगवान है भजन लिरिक्स

माता और पिता में ही भगवान है,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है,
मैया हमको जन्म देकर पालती,
और पिता का जीवन पर एहसान है,
माता और पिता में ही भगवान हैं,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है।bd।
mata aur pita me hi bhagwan hai
तर्ज – दूल्हे का सेहरा।
देखे – ना जरुरत उसे पूजा और पाठ की।



घोलकर ममता पिलाती दूध में माता,

थामकर उंगली पिता चलना है सिखलाता,
इनके चरणों में जन्नत की बात है,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है,
माता और पिता मे ही भगवान हैं,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है।bd।



त्यागकर अपनी खुशी हमको हंसाते है,

खुद रहे भूखे मगर हमको खिलाते है,
इनसे बढ़कर कोई ना दयावान है,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है,
माता और पिता मे ही भगवान हैं,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है।bd।



हर मुसीबत से दुआ इनकी बचाती है,

हो दया इनकी तो मंजिल पास आती है,
हृदय में बस धरलो इनका ध्यान है,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है,
माता और पिता मे ही भगवान हैं,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है।bd।



माता और पिता में ही भगवान है,

इनसे होती ईश्वर की पहचान है,
मैया हमको जन्म देकर पालती,
और पिता का जीवन पर एहसान है,
माता और पिता में ही भगवान हैं,
इनसे होती ईश्वर की पहचान है।bd।

Singer – Mukesh Kumar Meena


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें