कैकेई के वचन कठोर भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए लिरिक्स

कैकेई के वचन कठोर,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए,
जननी के वचन कठोर,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए।।



धागा हो तो तोड़ दूं मैं,

पर वचन न तोड़े जाएं,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए,
जननी के वचन कठोर,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए।।



चिठ्ठी जो होती वाच सुनाते,

मोसे करम ना वांचे जाए,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए,
जननी के वचन कठोर,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए।।



कुवना जो होता हम पाट देते,

समुद्र ना पाटे जाए,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए,
जननी के वचन कठोर,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए।।



कैकेई के वचन कठोर,

भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए,
जननी के वचन कठोर,
भरत के सुनतहि अंसुआ भर आए।।

गायक – गोलू ओझा।
प्रेषक – मनीष प्रजापति।
7696018648


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें