साँवरा इम्तिहान लेता है ज़िन्दगी सँवार देता है लिरिक्स

ज़िन्दगी सँवार देता है,
पर साँवरा इम्तिहान लेता है,
मेरा सांवरा इम्तिहान लेता है।।

तर्ज – ज़िन्दगी इम्तिहान लेती है।



मुश्किल समय में,

हमको परखता,
विश्वास कितना,
ये सब समझता,
‘प्रेमी को जान’-३,लेता है,
मेरा सांवरा इम्तिहान लेता है।।



दुख की तपिश जब,

तुझको जलाए,
सुख की ये छय्या,
बन कर के आए,
‘खुशी की बहार’-३,देता है,
मेरा सांवरा इम्तिहान लेता है।।



वीरानों में,

जब तू चलेगा,
कहता ‘कमल’ ये,
साथ मिलेगा,
‘सुन ये पुकार’-३,लेता है,
मेरा सांवरा इम्तिहान लेता है।।



ज़िन्दगी सँवार देता है,

पर साँवरा इम्तिहान लेता है,
मेरा सांवरा इम्तिहान लेता है।।

गायक – मुकेश बागड़ा जी।
रचियता – राघव गुप्ता(कमल)
प्रेषक – अनमोल गुप्ता
8800806260


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें