तुम मेरे जीवन के धन हो और प्राणाधार हो भजन लिरिक्स

तुम मेरे जीवन के धन हो,
और प्राणाधार हो,
एक तुम ही दाता दयालु,
एक तुम ही दाता दयालु,
सब के पालन हार हो,
तुम मेरे जीवन के धन हों,
और प्राणाधार हो।।



जप रहे तेरा नाम पंछी,

गीत गाती है पवन,
जप रहे तेरा नाम पंछी,
गीत गाती है पवन,
रंग रहे रंगो में जग को,
अजब रचनाकार हो,
तुम मेरे जीवन के धन हों,
और प्राणाधार हो।।



भर रहे धन धान से तुम,

सबके ही परिवार को,
भर रहे धन धान से तुम,
सबके ही परिवार को,
दे के तुम थकते नहीं हो,
ऐसी तुम सरकार हो,
तुम मेरे जीवन के धन हों,
और प्राणाधार हो।।



जिंदगी की नांव मैने,

सौंप दी प्रभु आप को,
जिंदगी की नांव मैने,
सौंप दी प्रभु आप को,
तुम बचाओ या डुबाओ,
मेरे खेवन हार हो,
Bhajan Diary Lyrics,
तुम मेरे जीवन के धन हों,
और प्राणाधार हो।।



तुम मेरे जीवन के धन हो,

और प्राणाधार हो,
एक तुम ही दाता दयालु,
एक तुम ही दाता दयालु,
सब के पालन हार हो,
तुम मेरे जीवन के धन हों,
और प्राणाधार हो।।

Singer – Sanjay Krishna Sharma


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें