सांवरा बागो बणायो थारो चाव से भजन लिरिक्स

सांवरा बागो बणायो,
थारो चाव से,
पहरो पहरो जी,
पहरो पहरो जी,
निरखाला थाने श्याम सांवरा,
बागो बणायो घने चाव से।।



केसरिया बागे माहि,

गोटा को काम,
हिरा मोती माणक पन्ना,
जड़ाया म्हारा श्याम,
लटके लटके जी,
लटके लटके जी,
नेफा में लटकन चार सांवरा,
बागो बणायो घने चाव से।।



उब्या रंगरेज कने म्हे,

बागो रंगवाया,
पहरो जी श्याम मिज़ाज़ी,
चाव स्यु ल्याया,
दिल की टालो ना,
दिल की टालो ना,
थे तो हो बड़ा दिलदार सांवरा,
बागो बणायो घने चाव से।।



सांवरो बागो दिखायो,

म्हाने पैहर के,
कर ली कर ली जी,
कर ली कर ली जी,
‘गोलू’ की अर्जी स्वीकार सांवरा,
बागो बणायो घने चाव से।।



सांवरा बागो बणायो,

थारो चाव से,
पहरो पहरो जी,
पहरो पहरो जी,
निरखाला थाने श्याम सांवरा,
बागो बणायो घने चाव से।।

Singer – Shital Chandak Sharma


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें