रूणझुण रूणझुण घुघरू बाजे पिछम धरा रे माय

रूणझुण रूणझुण घुघरू बाजे,
पिछम धरा रे माय,
रूनीचे रे मारगे,
रूनीचे रे मारगे ओ,
लीलो घोडो आवे रे,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



अरे देसुरी रो बाणीयो रे राम,

यात्रा ने जाय,
सामी मिलियो चोरटो,
सामी मिलीयो चोरटो,
ओ झूठी सोगन खावे,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



अरे गेरी गेरी झाडीया रे माय,

मीठा बोले मोर,
तीन तो है यात्री चौथो मिलगो चोर,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



अरे डीगी डीगी झाडीया रे माय,

मिरगा बोले मोर,
अरे मार दिनो बाणीया ने,
धन लेग्यो चोर,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



ऊबी अबला करे है पुकार,

कठीने गयो रे मारो,
लीले रो असवार,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



अरे कटे भागो जाय,

सेठजी रो माल थुतो,
कितरा दिन खाय,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



अरे फोड दिनी आखीया रे,

जाड दियो कोड,
दुनिया देखेला ओतो,
रामसा रो चोर,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



उठेनी तू सेठानी धड सु माथो जोड,

उठावेनी सेठजी ने,
आलस मरोड,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



अरे गावे दल्लो बाणीयो रे ,

भली राखी टेक,
गाँव रूनीचा मे लेलीनो फेर,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।



अरे रूणझुण रूणझुण घुघरू बाजे,

पिछम धरा रे माय,
रूनीचे रे मारगे,
रूनीचे रे मारगे ओ,
लीलो घोडो आवे रे,
पीरजी आविया रे,
अरे सायल सुनेनी दल्ला,
सेठ री रे जियो,
रामसा जियो पीरजी जियो,
जियो रे भई जियो,
अरे रूणझुण रूणझुण घुँघरू बाजे।।

Singer – Prakash Mali
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

चौसठ जोगनीया ए अरजी सुनजो म्हारी माँ भजन लिरिक्स

चौसठ जोगनीया ए अरजी सुनजो म्हारी माँ भजन लिरिक्स

चौसठ जोगनीया ए अरजी, सुनजो म्हारी माँ, सुनजो म्हारी माँ, विनती सुनजो म्हारी माँ. सुनजो म्हारी माँ, विनती सुनजो म्हारी माँ, लजीया राखजो ए अरजी, सुनजो म्हारी माँ।। तर्ज –…

जय महावीर मेवाड़ धरा महाराणा पन्नाधाय गाथा

जय महावीर मेवाड़ धरा महाराणा पन्नाधाय गाथा

जय महावीर मेवाड़ धरा महाराणा, एकलिंग दिवान थाने, शत् शत् प्रणाम थाने, प्रण लिया वारया नित प्राण रे, जय महावीर मेवाड धरा महाराणा।। आडावल ऊंचो अडखीलो, ऊंचो गढ चितौड़ रे,…

लीला घोड़े वाला ओ धोलकी धजा वाला ओ भजन लिरिक्स

लीला घोड़े वाला ओ धोलकी धजा वाला ओ भजन लिरिक्स

लीला घोड़े वाला ओ, दोहा – रामा शामा आवजो, और कलयुग वे गरूर, अर्ज करू अजमाल रा पीरा, ओ हैला सांभलजो रे हजूर। लीला घोड़े वाला ओ, धोलकी धजा वाला…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे