प्रथम पेज प्रकाश माली भजन खिड़की मिन्दर री थारी खोल दो खेतलाजी भजन लिरिक्स

खिड़की मिन्दर री थारी खोल दो खेतलाजी भजन लिरिक्स

खिड़की मिन्दर री थारी,
खोल दो खेतलाजी,
आयो दर्शन ने थारे द्वार जे ए हा,
सारंगवा नगरी रा,
मोटा देवता भेरूजी,
अरे निव निव लागू,
थारे पाव जे ए हा।।



बेली चढावु थारे बाकला खेतलाजी,

जगमग जगावु थारे ज्योत जे ए हा,
बेली चढावु थारे बाकला खेतलाजी,
जगमग जगावु थारे ज्योत जे ए हा।।



लायो छत्तर ने थारे सेवरा खेतलाजी,

अरे फुलों री लायो फूलमाल जे ए हा,
लायो छत्तर ने थारे सेवरा खेतलाजी,
अरे फूलों री लायो फूलमाल जे ए हा।।



अरे देवो दर्शन दुर्बल जाण ने भेरूजी,

अरे भगत करे है पुकार जे ए हा,
अरे देवो दर्शन दुर्बल जाण ने भेरूजी,
अरे भगत करे है पुकार जे ए हा।।



म्हाने दिरावो एक बालको खेतलाजी,

घेणा मंगावो घर री नार रो जे ए हा,
म्हाने दिरावो एक बालको खेतलाजी,
अरे घेणा मंगावो घर री नार रो जे ए हा।।



दोय कर जोड करू विनती खेतलाजी,

अरे गावे गावे अर्जुन राव जे ए हा,
दोय कर जोड़ करू विनती खेतलाजी,
अरे गावे गावे अर्जुन राव जे ए हा।।



खिड़की मिन्दर री थारी,

खोल दो खेतलाजी,
आयो दर्शन ने थारे द्वार जे ए हा,
सारंगवा नगरी रा,
मोटा देवता भेरूजी,
अरे निव निव लागू,
थारे पाव जे ए हा।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।