पीड़ा थारी मेटसी बाबो श्याम भजन लिरिक्स

हाँ ऐ सुरता सांवरियो दिलदार,
पीड़ा हारी मेट सी मेरी मान,
पीड़ा थारी मेटसी बाबो श्याम,
हाँ ए सुरता नैणां सू पीव निहार,
पीड़ा थारी मेट सी मेरी मान,
पीडा थारी मेट सी बाबो श्याम।।
pida thari metsi babo shyam bhajan lyrics



मनमोहन मन में बसा,

तो वेसु कर ले प्रीत,
वेसु बड़ो ना पायसी,
अरे बावऴी मीत,
हां ऐ सुरतां सोवणं में कांई सार,
पीड़ा थारी मेट सी मेरी मान,
पीडा थारी मेट सी बाबो श्याम।।



हेत हरि से की लगा,

जै चावे आराम,
मंजिल तेरी दूर है,
तो यो थगणां को गांव,
हां ऐ सुरता जीवन मरण सुधार,
पीड़ा थारी मेट सी मेरी मान,
पीडा थारी मेट सी बाबो श्याम।।



ले ले शरणों श्याम को,

तो मत ना देवे बौत,
मुरख को कै बिगड़े,
समझदार की मौत,
हां ऐ सुरतां कर ले सांवरिये तू प्यार,
पीड़ा थारी मेट सी मेरी मान,
पीडा थारी मेट सी बाबो श्याम।।



मान मान हट क्यों करें,

हे सुरतां नादान,
‘श्याम बहादुर’ श्याम ने,
बेगी सी ले जाणं हां,
ऐ सुरतां हो जा जरा होशियार,
पीड़ा थारी मेट सी मेरी मान,
पीडा थारी मेट सी बाबो श्याम।।



हाँ ऐ सुरता सांवरियो दिलदार,

पीड़ा हारी मेट सी मेरी मान,
पीड़ा थारी मेटसी बाबो श्याम,
हाँ ए सुरता नैणां सू पीव निहार,
पीड़ा थारी मेट सी मेरी मान,
पीडा थारी मेट सी बाबो श्याम।।

गायक – संजू शर्मा जी।
प्रेषक – किशन लाल तेली।
84012 82509


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें