ओ मनमोहन कृष्ण कन्हैया हाथ छुड़ा के कहाँ चले

ओ मनमोहन कृष्ण कन्हैया,
हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।



बंसी बजाके रास रचाकर,

गोपी नचा के कहाँ चले,
ओ मन मोहन कृष्ण कन्हैया,
हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।



माखन खाया मटकी फोड़ी,

छुपते छुपाते कहाँ चले,
ओ मन मोहन कृष्ण कन्हैया,
हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।



भरी सभा मे द्रुपदसुता का,

चीर बढ़ा के कहाँ चले,
ओ मन मोहन कृष्ण कन्हैया,
हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।



गाय चराई वंशी बजाई,

ग्वाल सखा संग कहाँ चले,
ओ मन मोहन कृष्ण कन्हैया,
हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।



यमुना में जा गेंद उछाली,

नाग नथैया कहाँ चले,
ओ मन मोहन कृष्ण कन्हैया,
हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।



अर्जुन का सब मोह मिटाके,

गीता गाके कहाँ चले,
ओ मन मोहन कृष्ण कन्हैया,
हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।



तुम्हर पुकारे हम सब ‘राजेन्द्र’,

विश्व रूप तुम कहाँ चले,
ओ मन मोहन कृष्ण कन्हैया,
हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।



ओ मनमोहन कृष्ण कन्हैया,

हाथ छुड़ा के कहाँ चले।।

गीतकार/गायक – राजेंद्र प्रसाद सोनी।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

श्याम की कृपा से हुआ है नाम मेरा भजन लिरिक्स

श्याम की कृपा से हुआ है नाम मेरा भजन लिरिक्स

श्याम की कृपा से, हुआ है नाम मेरा, खुद आकर सांवरिया, करे हर काम मेरा, श्याम की किरपा से।। श्याम नाम की करूँ चाकरी, मौज में जीवन काटूँ, खुद रसपान…

हार गया मैं सांवरे मुझे तू ही संभाले भजन लिरिक्स

हार गया मैं सांवरे मुझे तू ही संभाले भजन लिरिक्स

हार गया मैं सांवरे, मुझे तू ही संभाले, बीच भंवर में फंसी है नैया, तू ही निकाले, हार गया मैं साँवरे, मुझे तू ही संभाले।। तर्ज – बांह पकड़ ले…

जबसे खाटू वाला मेरी पहचान हो गया भजन लिरिक्स

जबसे खाटू वाला मेरी पहचान हो गया भजन लिरिक्स

जबसे खाटू वाला मेरी पहचान हो गया, दोहा – कभी खयाल कभी जिक्र, कभी दुआओं में, तेरे ही नाम की खुशबु है, इन फिजाओं में, हवाएँ छूके जो गुजरे, कभी…

ये आया जन्मदिन तेरा बाबा नाचे गाएंगे लिरिक्स

ये आया जन्मदिन तेरा बाबा नाचे गाएंगे लिरिक्स

खाटू वाले श्याम धनी, तेरा धाम सजायेंगे, ये आया जन्मदिन तेरा, बाबा नाचे गाएंगे।। कार्तिक के महीने की बाबा, होगी तैयारी है, खाटू में दरबार सजा, लगी रोनक भारी है,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे