मत ले रे जीवड़ा नींद हरामी चेतावनी भजन लिरिक्स

मत ले रे जीवड़ा नींद हरामी,
नींद आलसी,
थोड़ा जीवणा रे खातिर,
काई सोवे।।



इण क्या में घोर अन्धेरो,

पर घर दिवला काई जोवे,
मत ले रे जिवडा नींद हरामी,
नींद आलसी,
थोड़ा जीवणा रे खातिर,
काई सोवे।।



इण काया में खान हीरा री,

कर्म कांकरिया ने काई रोवे,
मत ले रे जिवडा नींद हरामी,
नींद आलसी,
थोड़ा जीवणा रे खातिर,
काई सोवे।।



इण काया मे बाग चंदन रो,

बीज बावलिया रो काई बोवे,
मत ले रे जिवडा नींद हरामी,
नींद आलसी,
थोड़ा जीवणा रे खातिर,
काई सोवे।।



इण काया में सागर भरियो,

कादा में कपड़ा काई धोवे,
मत ले रे जिवडा नींद हरामी,
नींद आलसी,
थोड़ा जीवणा रे खातिर,
काई सोवे।।



कहत कबीर राम ने भज ले,

अंत समय मे पड़ियो रोवे,
मत ले रे जिवडा नींद हरामी,
नींद आलसी,
थोड़ा जीवणा रे खातिर,
काई सोवे।।



मत ले रे जीवड़ा नींद हरामी,

नींद आलसी,
थोड़ा जीवणा रे खातिर,
काई सोवे।।

– गायक एवं प्रेषक –
श्यामनिवास जी।
9024989481


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

भगता में मस्ती छाई रूत बाबे सु मिलण री आई

भगता में मस्ती छाई रूत बाबे सु मिलण री आई

भगता में मस्ती छाई, रूत बाबे सु मिलण री आई, नगाड़ा-2 बाजन लाग्या ऐ, जयकारा गुंजण लाग्या ऐ, म्हारा जाग्या पूर्वला भाग, बुलावो बाबे रो आयो रे।। बित गई सावण…

भोले बाबा का रूप निराला प्रकाश माली भजन लिरिक्स

भोले बाबा का रूप निराला प्रकाश माली भजन लिरिक्स

भोले बाबा का रूप निराला, श्लोक – शिव समान दाता नहीं, और विपत विदारण हार, लज्जा सबकी राखियो, शिव नंदी के असवार। भोले बाबा का रूप निराला, शिव शंकर का…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे