कालूगढ़ में आप बिराजो साचो है दरबार काली माता भजन

कालूगढ़ में आप बिराजो,
साचो है दरबार,
थारी होवे जय जयकार,
काली माता की जयकार,
दीन दुखी रा कारज सारो,
परचा अपरम्पार,
थारी होवे जय जयकार,
काली माता की जयकार।।



सारस ऋषि ने परचो दीनो,

दीनो आप पुकार,
सारस ऋषि ने परचो दीनो,
दीनो आप पुकार,
घायल सांडनी धरती नापी,
घायल सांडनी धरती नापी,
जाने सब संसार,
काली माता की जयकार,
थारी होवे जय जयकार।।



काली माता इन कलयुग में,

आप बडी दातार,
काली माता इन कलयुग मे,
आप बडी़ दातार,
अरे भगता रे माते किरपा राखो,
भगता माते किरपा राखो,
भर देवो भण्डार,
काली माता की जयकार,
थारी होवे जय जयकार।।



रक्त बीज ने मारन वाली,

शक्ति रो अवतार,
रक्त बीज ने मारन वाली,
शक्ति रो अवतार,
तीनो लोक मनावे थारी,
तीनो लोक मनावे थारी,
लीला अपरम्पार,
काली माता की जयकार,
थारी होवे जय जयकार।।



पेमाराम भादु ने मैया,

परचा आप दिखाया माँ,
पेमाराम भादु ने मैया,
परचा आप दिखाया,
मन बुद्धि ने ठीक कियो माँ,
मन बुद्धि ने ठीक कियो,
थारे चरना शिश निवाय,
काली माता की जयकार,
थारी होवे जय जयकार।।



दास अशोक सुनावे म्हारी,

नाव पडी मजधार,
दास अशोक सुनावे म्हारी,
नाव पडी मजधार,
किरपा करदो काली माता,
भवसु करदो पार,
थारी बोला जय जयकार,
काली माता की जयकार।।



कालूगढ़ में आप बिराजो,

साचो है दरबार,
थारी होवे जय जयकार,
काली माता की जयकार,
दीन दुखी रा कारज सारो,
परचा अपरम्पार,
थारी होवे जय जयकार,
काली माता की जयकार।।

गायक – महेंद्र सिंह जी राठौर।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें