कालूगढ़ में आप बिराजो साचो है दरबार काली माता भजन

कालूगढ़ में आप बिराजो,
साचो है दरबार,
थारी होवे जय जयकार,
काली माता की जयकार,
दीन दुखी रा कारज सारो,
परचा अपरम्पार,
थारी होवे जय जयकार,
काली माता की जयकार।।



सारस ऋषि ने परचो दीनो,

दीनो आप पुकार,
सारस ऋषि ने परचो दीनो,
दीनो आप पुकार,
घायल सांडनी धरती नापी,
घायल सांडनी धरती नापी,
जाने सब संसार,
काली माता की जयकार,
थारी होवे जय जयकार।।



काली माता इन कलयुग में,

आप बडी दातार,
काली माता इन कलयुग मे,
आप बडी़ दातार,
अरे भगता रे माते किरपा राखो,
भगता माते किरपा राखो,
भर देवो भण्डार,
काली माता की जयकार,
थारी होवे जय जयकार।।



रक्त बीज ने मारन वाली,

शक्ति रो अवतार,
रक्त बीज ने मारन वाली,
शक्ति रो अवतार,
तीनो लोक मनावे थारी,
तीनो लोक मनावे थारी,
लीला अपरम्पार,
काली माता की जयकार,
थारी होवे जय जयकार।।



पेमाराम भादु ने मैया,

परचा आप दिखाया माँ,
पेमाराम भादु ने मैया,
परचा आप दिखाया,
मन बुद्धि ने ठीक कियो माँ,
मन बुद्धि ने ठीक कियो,
थारे चरना शिश निवाय,
काली माता की जयकार,
थारी होवे जय जयकार।।



दास अशोक सुनावे म्हारी,

नाव पडी मजधार,
दास अशोक सुनावे म्हारी,
नाव पडी मजधार,
किरपा करदो काली माता,
भवसु करदो पार,
थारी बोला जय जयकार,
काली माता की जयकार।।



कालूगढ़ में आप बिराजो,

साचो है दरबार,
थारी होवे जय जयकार,
काली माता की जयकार,
दीन दुखी रा कारज सारो,
परचा अपरम्पार,
थारी होवे जय जयकार,
काली माता की जयकार।।

गायक – महेंद्र सिंह जी राठौर।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

सन्तो देखों भजन री लहरी मैं तो सतगुरु शब्दों हेरी

सन्तो देखों भजन री लहरी मैं तो सतगुरु शब्दों हेरी

सन्तो देखों भजन री लहरी, दोहा – अमर लोक से बिछड़िया हंसा, आय कर नगर बसाया, आया जका घर भूलगा, माया से मोह लगाया। सन्तो देखों भजन री लहरी, मैं…

हिलमिल के सजन सत्संग करिये भजन लिरिक्स

हिलमिल के सजन सत्संग करिये भजन लिरिक्स

हिलमिल के सजन सत्संग करिये, सत्संग करिये भव से तिरिये, हिलमिल के सजन सत्संग करिए, सत्संग करिये भव से तिरिये।। सन्त सरोवर निर्मल जल है, ज्ञान मुक्ति की गगरी भरिये,…

अजमलजी रे आंगन माई सखीया मंगला गावे विवाह गीत

अजमलजी रे आंगन माई सखीया मंगला गावे विवाह गीत

अजमलजी रे आंगन माई, सखीया मंगला गावे। खम्मा खम्मा ओ म्हारा, रूनीचे रा धणीया, थाने तो ध्यावे आखी मारवाड़ ओ, बाबा गुजरात ओ, अजमालजी रा कंवरा, खम्मा खम्मा ओ म्हारा,…

पापी के मुख से राम नही निकले केसर घुल गयी गारा में

पापी के मुख से राम नही निकले केसर घुल गयी गारा में

पापी के मुख से राम नही निकले, केसर घुल गयी गारा में, मनख जमारो वीरा ऐड़ो मत खोवो, सुकृत कर लो जमारा ने।। भेस पद्मनी ने गहनों परायो, वा कई…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे