नाडोल वाली आशापुरा ने जाऊँ वारी वारी ओ

नाडोल वाली आशापुरा ने,
जाऊँ वारी वारी ओ,
आशापुरा रा मिन्दरिया में,
आशापुरा रा मिन्दरिया मे,
ध्वजा फरूके भारी ओ,
नाडोंल वाली आशापुरा ने,
जाऊँ वारी वारी ओ।।



नाडोल वाली नगरी मायने,

मन्दिर बनीयो भारी ओ,
नाडोल वाली नगरी मायने,
मन्दिर बनीयो भारी ओ,
नितरा आवे थारे जातरी,
नितरा आवे थारे जातरी,
भीड़ पडे भगता री ओ,
नाडोंल वाली आशापुरा ने,
जाऊँ वारी वारी ओ।।



अरे घिरत मिठाई चाढे चूरमा,

भीड़ पडे भगता री ओ,
घिरत मिठाई चाढे चूरमा,
भीड़ पडे भगता री ओ,
आशापुरा रे मिन्दर माई,
आशापुरा रे मिन्दर माई,
निवन करे नर नारी ओ,
नाडोंल वाली आशापुरा ने,
जाऊँ वारी वारी ओ।।



अरे सांझ सवेरे होवे आरती,

ढोला रे ढमकारे माँ,
सांझ सवेरे होवे आरती,
ढोला रे ढमकारे,
भगता री यु भीड़ पडे,
भगता री यु भीड़ पडे,
थाने वन्दन बारम्बार माँ,
नाडोंल वाली आशापुरा ने,
जाऊँ वारी वारी ओ।।



अरे मैया जी री महिमा गावे,

आवेे दुनिया सारी माँ,
आशापुरा री महिमा गावे,
आवे दुनिया सारी माँ,
भगता री माँ वेले पधारो,
भगता री माँ वेले पधारो,
अबके बारी म्हारी ओ,
नाडोंल वाली आशापुरा ने,
जाऊँ वारी वारी ओ।।



नाडोल वाली आशापुरा ने,

जाऊँ वारी वारी ओ,
आशापुरा रा मिन्दरिया में,
आशापुरा रा मिन्दरिया मे,
ध्वजा फरूके भारी ओ,
नाडोंल वाली आशापुरा ने,
जाऊँ वारी वारी ओ।।

गायक – महेंद्र सिंह जी राठौर।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने राजस्थानी भजन

हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने राजस्थानी भजन

हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने, दोहा – सतगुरु के दरबार में, नर जाइए बारंबार, भूली वस्तु बताएं दी, मेरे सतगुरु दातार। हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने,…

सड़का सड़का दिवलीयो संजोय भोला सेवक रे भादरिया माता भजन

सड़का सड़का दिवलीयो संजोय भोला सेवक रे भादरिया माता भजन

सड़का सड़का दिवलीयो, संजोय भोला सेवक रे, माताजी रो जोटो लेगा चोरटा, मैणा माताजी रो जोटो लेगा चोरटा।। एडा है ऐलान जोटा रा ऐलान, भोला सेवक रे, एडा है ऐलान…

पन्ना कालीवा अंधियारी माँझल रात पन्नाधाय की मार्मिक कविता

पन्ना कालीवा अंधियारी माँझल रात पन्नाधाय की मार्मिक कविता

पन्ना कालीवा अंधियारी माँझल रात, अंधियारी आधी रात, नन्हा सो ऊंधियो साथ, चितोड दुर्ग सु एकली चली, कुम्भलगढ़ सु चाल पड़ी।। अरे मेवाड़ धरा रे उनवेल्या पर, राज करे बनवीर…

कलयुग में एक धाम ज्यारो़ नाम गुलर गंगा है

कलयुग में एक धाम ज्यारो़ नाम गुलर गंगा है

कलयुग में एक धाम ज्यारो़, नाम गुलर गंगा है, गुलर में महाराज बिराजे, ज्यारा दरशन‌‌ चंगा है।। ढिंगसरी नीज गांव कहायो, बा बसती बड भागी है, जांगीड़ कुल मे जन्म…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे