हिये काया में बर्तन माटी रा हमको डर लागो एक दिन को

हिये काया में बर्तन माटी रा,

दोहा – कबीरा जब हम पैदा हुए,
जग हंसा हम रोय,
कुछ करणी ऐसी करें,
की हम हंसे जग रोय।
कबीर कहे कमाल से,
तु दो बाता सिख लेय,
कर सायब से बंदगी,
और भूखे को अन्न देय।



हिये काया में बर्तन माटी रा,

टूटे जासी नहीं कर राङ को,
सायब हमको डर लागो,
एक दिन को,
सायब हमको डर लागो,
एक दिन को,
एक ही दिन को घड़ी पलक रो,
एक ही दिन रो घड़ी पलक रो,
नहीं है भरोसो पल छिन को,
सायब हम को डर लागो,
एक दिन को।।



हिये काया में माला मोतियन की,

हिये काया में माला मोतियन की,
टूटे जासी डोरों रुङो तन को.
सायब हमको डर लागो,
एक दिन को,
एक ही दिन को घड़ी पलक रो,
एक ही दिन रो घड़ी पलक रो,
नहीं है भरोसो पल छिन को,
सायब हम को डर लागो,
एक दिन को।।



कहत कबीर सुनो भाई संतों,

कहत कबीर सुनो भाई साधो,
पहला नाम अलख रो,
सायब हमको डर लागो,
एक दिन को,
एक ही दिन को घड़ी पलक रो,
एक ही दिन रो घड़ी पलक रो,
नहीं है भरोसो पल छिन को,
सायब हम को डर लागो,
एक दिन को।।



हिये काया मे बर्तन माटी रा,

टूटे जासी नहीं कर राङ को,
सायब हमको डर लागो,
एक दिन को,
सायब हमको डर लागो,
एक दिन को,
एक ही दिन को घड़ी पलक रो,
एक ही दिन रो घड़ी पलक रो,
नहीं है भरोसो पल छिन को,
सायब हम को डर लागो,
एक दिन को।।

गायक – प्रमोद पंडित अर्जियाना।
प्रेषक – सौरव गर्ग।
मो. – 9610190649


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

सुणो सुणो म्हारा सांवरा कुण करे सहाय गौमाता भजन लिरिक्स

सुणो सुणो म्हारा सांवरा कुण करे सहाय गौमाता भजन लिरिक्स

धर्म को डर नहीं दुनिया रे माय, धणीया बिना आज सुनी फिरे गाय, कटवा ने चाली आज कान्हा थारी गाय, सुणो सुणो म्हारा सांवरा कुण करे सहाय, सुणो सुणो म्हारा…

पूनम की है रात दाता आज थाने आणो है भजन लिरिक्स

पूनम की है रात दाता आज थाने आणो है भजन लिरिक्स

पूनम की है रात, दाता आज थाने आणो है, ओ कोल निभानो है, पूनम की हैं रात।। आसोतरा रे माय, दरबार थारो है, खेतेश्वर बापजी, आपरे शरणे, सब भक्त आवे…

मेवाड़ प्यारो लागे जी सा राजस्थानी भजन लिरिक्स

मेवाड़ प्यारो लागे जी सा राजस्थानी भजन लिरिक्स

ओ जी मेवाड़ प्यारो लागे जी सा, माने मीरा बाई रो देश, मेवाड़ प्यारो लागे जी सा।। अरे पूरव दिशा में बूंदी तो कोटा, अन पानी का हे नहीं टोटा,…

छोड़ चला रे बंजारा गठडी छोड़ चला बंजारा लिरिक्स

छोड़ चला रे बंजारा गठडी छोड़ चला बंजारा लिरिक्स

छोड़ चला रे बंजारा, गठडी छोड़ चला बंजारा।। इस गठरी में चांद और सूरज, इस गठरी में चांद और सूरज, इसमें नौ लख तारा, गठडी छोड़ चला बंजारा। छोड़ चला…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “हिये काया में बर्तन माटी रा हमको डर लागो एक दिन को”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे