गोविन्द बोलो हरी गोपाल बोलो भजन लिरिक्स

गोविन्द बोलो हरी गोपाल बोलो,
राधा रमण हरी गोविन्द बोलो,
राधा रमण हरी गोविन्द बोलो,
गोविन्द बोलों हरी गोपाल बोलो।।



ब्रह्मा की जय जय विष्णु की जय जय,

ब्रह्म की जय जय विष्णु की जय जय,
ओ ग्यान की देवी सरस्वती की जय जय,
ओ ग्यान की देवी सरस्वती की जय जय,
गोविन्द बोलों हरी गोपाल बोलो।।



रामजी की जय जय लक्ष्मण जी की जय जय,

रामजी की जय जय लक्ष्मण जी की जय जय,
भरतजी की जय जय शत्रुघ्न जी जय जय,
भरतजी की जय जय शत्रुघ्न जी की जय जय,
जनक दुलारी सीता माता की जय जय,
जनक दुलारी सीता माता की जय जय,
गोविन्द बोलों हरी गोपाल बोलो।।



गंगा की जय जय यमुना की जय जय,

गंगा की जय जय यमुना की जय जय,
त्रिवेणी मात सरस्वती की जय जय,
त्रिवेणी मात सरस्वती की जय जय,
गोविन्द बोलों हरी गोपाल बोलो।।



माता की जय जय पिता की जय जय,

माता की जय जय पिता की जय जय,
अपने अपने गुरूदेव की जय जय,
अपने अपने गुरूदेव की जय जय,
गोविन्द बोलों हरी गोपाल बोलो।।



गोविन्द बोलो हरी गोपाल बोलो,

राधा रमण हरी गोविन्द बोलो,
राधा रमण हरी गोविन्द बोलो,
गोविन्द बोलों हरी गोपाल बोलो।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें