नागौरी तो प्यारो घणो लागे जी

नागौरी तो प्यारो घणो लागे जी,

राजस्थानी सिंगरो में अनिल जी कहिजे,
राजस्थानी सिंगर अनिल नागौरी कहिजे,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणों लागे जी,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणों लागे जी।।



२००४ मे तो जनमीया जी,

२००४ मे तो जनमीया जी,
ओ घर जसमलजी इन्दलीया जी,
ओ घर जसमलजी इन्दलीया जी,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणों लागे जी।।



गाँव स्तेरण जिला नागौर मे,

गाँव स्तेरण जिला नागौर मे,
इन्दलीया परिवार हर्षाया जी,
इन्दलीया परिवार हर्षाया जी,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणों लागे जी।।



अनिल जी तो गुरू मुखी ग्यान पायो जी,

अभयदासजी गुरू सिर हाथ धरीयो जी,
बेडो पार लगायो जी,
बेडो पार लगायो जी,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणों लागे जी।।



NMG स्टूडियो आपरो कहिजे,

NMG स्टूडियो आपरो कहिजे,
नोखा मंडी मायी जी,
नोखा मंडी मायी जी,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणों लागे जी।।



आपरे नाम रो डंको बाजे,

आपरे नाम रो डंको बाजे,
राजस्थान रे मायी जी,
राजस्थान रे मायी जी,
आपकी ये रचना मनीष बनायी,
चन्दु सुणीया थारी रचना गावे जी,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणों लागे जी।।



राजस्थानी सिंगरो में अनिल जी कहिजे,

राजस्थानी सिंगर अनिल नागौरी कहिजे,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणो लागे जी,
अनिल जी तो दुनिया में छाया जी,
नागौरी तो प्यारो घणों लागे जी।।

लेखक / प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें