शबरी निहारे रास्ता आएंगे राम जी भजन लिरिक्स

शबरी निहारे रास्ता,
आएंगे राम जी,
मेरा धन्य जीवन,
बनाएँगे राम जी,
शबरी निहारें रास्ता।।

तर्ज – मिलती है जिंदगी में।



आँखों से रोज अपने,

राहें निहारती,
आँखों से रोज अपने,
राहें निहारती,
राहें निहारती,
एक काँटा लगे ना कोई भी,
कोमल है राम जी,
शबरी निहारें रास्ता,
आएंगे राम जी,
मेरा धन्य जीवन,
बनाएँगे राम जी,
शबरी निहारें रास्ता।।



कलियाँ में बेर बागो से,

चुन चुन के ला रही,
कलियाँ में बेर बागो से,
चुन चुन के ला रही,
चुन चुन के ला रही,
खट्टे हो चाहे मीठे हो,
खाएँगे राम जी,
शबरी निहारें रास्ता,
आएंगे राम जी,
मेरा धन्य जीवन,
बनाएँगे राम जी,
शबरी निहारें रास्ता।।



आए जब श्री राम जी,

चरणों में गिर पड़ी,
आए जब श्री राम जी,
चरणों में गिर पड़ी,
चरणों में गिर पड़ी,
अश्को से धो रही है,
राम के पाँव जी,
शबरी निहारें रास्ता,
आएंगे राम जी,
मेरा धन्य जीवन,
बनाएँगे राम जी,
शबरी निहारें रास्ता।।



शबरी निहारे रास्ता,

आएंगे राम जी,
मेरा धन्य जीवन,
बनाएँगे राम जी,
शबरी निहारें रास्ता।।

स्वर – श्री विकासदास जी महाराज।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें