जय हो प्रभु सेठ सांवरिया सूनले तू हमरी अरजिया

जय हो प्रभु सेठ सांवरिया,

तर्ज – अजब है तेरी माया।

श्लोक – कृष्ण कन्हाई सेठ सांवरो,
ऊची तेरी शान,
हम सब वंदन करते है,
हमरा तूमको प्रणाम।

जय हो प्रभु सेठ सांवरिया,
सूनले तू हमरी अरजिया,
सहारा तेरा हमने लिया,
भरोसा प्रभु हमने किया,
करना कृपा घनश्याम,
घनश्याम,
मोरा श्याम मोरा श्याम मोरा श्याम।।


तू है स्वामी जग जीवन का,
करता धरता रे,
तू ही बनावै तू ही बिगाडे,
तू फिर रचता रे,
डोले भवर मे नैया मेरी,
तू देना सहारा रे,
तू ही है खेवैया मेरा,
करना भव पारा रे।
जय हो प्रभु सेठ सांवलिया,
सूनले तू हमरी अरजिया,
सहारा तेरा हमने लिया,
भरोसा प्रभु हमने किया,
करना कृपा घनश्याम,
घनश्याम,
मोरा श्याम मोरा श्याम मोरा श्याम।।


भक्तजनो का तू है सहारा,
हम तो माने रे,
दीन दखियो को तारा तुमने,
सब जग जाने रे,
दीखलादे तेरी मोहनी मूरत,
ये आश पूरादे रे।
जय हो प्रभु सेठ सांवलिया,
सूनले तू हमरी अरजिया,
सहारा तेरा हमने लिया,
भरोसा प्रभु हमने किया,
करना कृपा घनश्याम,
घनश्याम,
मोरा श्याम मोरा श्याम मोरा श्याम।।


तू है प्यारा नंद दुलारा,
भक्तो का सहारा रे,
कृष्ण कृष्ण कह हमने प्रभु जी,
जीवन गुजारा रे,
कभी ना भुले नाम तुम्हारा,
यही वर देना रे,
कृष्ण कन्हैया श्री रंग स्वामी,
भव पार लगाना रे।
जय हो प्रभु सेठ सांवलिया,
सूनले तू हमरी अरजिया,
सहारा तेरा हमने लिया,
भरोसा प्रभु हमने किया,
करना कृपा घनश्याम,
घनश्याम,
मोरा श्याम मोरा श्याम मोरा श्याम।।


जय हो प्रभु सेठ सांवरिया,
सूनले तू हमरी अरजिया,
सहारा तेरा हमने लिया,
भरोसा प्रभु हमने किया,
करना कृपा घनश्याम,
घनश्याम,
मोरा श्याम मोरा श्याम मोरा श्याम।।

– गायक एवं प्रेषक –
प्रवीण व्यास लकडवास उदयपुर
8890970310


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें