गजानंद गौरी जी के लाला मेरी महफिल में आ जाना लिरिक्स

गजानंद गौरी जी के लाला,
मेरी महफिल में आ जाना,
मनाएं आज हम तुमको,
मेरी महफिल में आ जाना।bd।

तर्ज – अगर किस्मत से।



गजानंद शिव के प्यारे हो,

गौरा के दुलारे हो,
धरु मे ध्यान चरणों में,
गजानंद आप आ जाना,
गजानन्द गौरी जी के लाला,
मेरी महफिल में आ जाना।bd।



रिद्धि सिद्धि के दाता हो,

भक्तो के विधाता हो,
मनाये आज हम तुमको,
गजानंद आप आ जाना,
गजानन्द गौरी जी के लाला,
मेरी महफिल में आ जाना।bd।



तेरा वंदन करे निशदिन,

जगत के प्राणी हम सब मिल,
मेहर की एक नज़र हम पर भी अब,
सरकार कर जाना,
गजानन्द गौरी जी के लाला,
मेरी महफिल में आ जाना।bd।



गजानंद गौरी जी के लाला,

मेरी महफिल में आ जाना,
मनाएं आज हम तुमको,
मेरी महफिल में आ जाना।bd।

गायक – बालक दास जी महाराज।
प्रेषक – वीरेंद्र सिंह कुशवाह।
8770536167


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें