प्रथम पेज कृष्ण भजन दानी मेरे श्याम जैसा दानी नहीं पाओगे भजन लिरिक्स

दानी मेरे श्याम जैसा दानी नहीं पाओगे भजन लिरिक्स

दानी मेरे श्याम जैसा,
दानी नहीं पाओगे,
जानते है घट घट की,
इनसे क्या छुपाओगे,
दानी मेरें श्याम जैसा,
दानी नहीं पाओगे।।

तर्ज – तुम तो ठहरे परदेसी।



इंसा तो इंसा है,

देवता नहीं होता,
सुख में तो हर्षाता,
दुःख में है वो रोता,
धीरज अगर ना रही,
तो धर्म क्या निभाओगे,
दानी मेरें श्याम जैसा,
दानी नहीं पाओगे,
जानते है घट घट की,
इनसे क्या छुपाओगे।।



कैसी शरम इनसे,

देव बड़े न्यारे है,
दीनो के साथी है,
हारे के सहारे है,
ले ले शरण इनकी,
मौज तुम उड़ाओगे,
दानी मेरें श्याम जैसा,
दानी नहीं पाओगे,
जानते है घट घट की,
इनसे क्या छुपाओगे।।



दानी मेरे श्याम जैसा,

दानी नहीं पाओगे,
जानते है घट घट की,
इनसे क्या छुपाओगे,
दानी मेरें श्याम जैसा,
दानी नहीं पाओगे।।

गायक – नंदू जी शर्मा।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।