बिगड़ी किस्मत को बनाता भोला भंडारी मेरा भजन लिरिक्स

बिगड़ी किस्मत को बनाता,
भोला भंडारी मेरा,
भोला भंडारी मेरा वो,
भोला भंडारी मेरा,
बिगड़ीं किस्मत को बनाता,
भोला भंडारी मेरा।।

तर्ज – सांवरी सूरत पे मोहन।



दुनिया के हर एक शय पे,

शिव शम्भू का राज है,
सूखे फूलों को खिलाता,
भोला भंडारी मेरा,
बिगड़ीं किस्मत को बनाता,
भोला भंडारी मेरा।।



कालो का काल जिसको,

पूजता संसार है,
रोतो को पल में हंसाता,
भोला भंडारी मेरा,
बिगड़ीं किस्मत को बनाता,
भोला भंडारी मेरा।।



कर में डमरू माथे पे चंदा,

जटा से बहती है गंगा,
नंदी पे आसन जमाता,
भोला भंडारी मेरा,
बिगड़ीं किस्मत को बनाता,
भोला भंडारी मेरा।।



सब को देता महल खजाना,

डमरू वाला प्यार से,
‘रवि’ को भी वो ही चमकाता,
भोला भंडारी मेरा,
बिगड़ीं किस्मत को बनाता,
भोला भंडारी मेरा।।



बिगड़ी किस्मत को बनाता,

भोला भंडारी मेरा,
भोला भंडारी मेरा वो,
भोला भंडारी मेरा,
बिगड़ीं किस्मत को बनाता,
भोला भंडारी मेरा।।

Singer – Ravi Raj


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें