​सांवरी सूरत पे मोहन दिल दीवाना हो गया भजन लिरिक्स

​सांवरी सूरत पे मोहन,
दिल दीवाना हो गया,

दिल दीवाना हो गया मेरा,
दिल दीवाना हो गया।।



एक तो तेरे नैन तिरछे,
दुसरा काजल लगा,

तिसरा नजरें मिलाना,
दिल दीवाना हो गया।
दिल दीवाना हो गया मेरा,
दिल दीवाना हो गया।।



एक तो तेरे होँठ पतले,
दुसरा लाली लगी,

तिसरा तेरा मुस्कुरना,
दिल दीवाना हो गया।
दिल दीवाना हो गया मेरा,
दिल दीवाना हो गया।।



एक तो तेरे हाथ कोमल,
दुसरा मेहंदी लगी,

तिसरा बंसी बजाना,
दिल दीवाना हो गया।
दिल दीवाना हो गया मेरा,
दिल दीवाना हो गया।।



एक तो तेरे पाव नाजुक,
दुसरा पायल बंधी,
तिसरा घुँघरू बजाना,
दिल दीवाना हो गया।
दिल दीवाना हो गया मेरा,
दिल दीवाना हो गया।।



एक तो तेरे भोग छप्पन,
दुसरा माखन धरा,

तिसरा खीचड़े का खाना,
दिल दीवाना हो गया।
दिल दीवाना हो गया मेरा,
दिल दीवाना हो गया।।



एक तो तेरे साथ राधा,
दुसरा रुक्मणी खड़ी,

तिसरा मीरा का आना,
दिल दीवाना हो गया।
दिल दीवाना हो गया मेरा,
दिल दीवाना हो गया।



​सांवरी सूरत पे मोहन,
दिल दीवाना हो गया,
दिल दीवाना हो गया मेरा,
दिल दीवाना हो गया।।



इसी तरह के हजारों भजनों को,

सीधे अपने मोबाइल में देखने के लिए,
भजन डायरी एप्प डाउनलोड करे।

भजन डायरी एप्प


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

तूने मुझको इतना दिया कैसे करूँ मैं तेरा शुक्रिया लिरिक्स

तूने मुझको इतना दिया कैसे करूँ मैं तेरा शुक्रिया लिरिक्स

तूने मुझको इतना दिया, कैसे करूँ मैं तेरा शुक्रिया, जबसे हुई है तेरी मेहर, जलने लगा है बुझता दिया, तुने मुझको इतना दिया, कैसे करूँ मैं तेरा शुक्रिया।। तर्ज –…

मनमोहन तुझे रिझाऊं तुझे नित नए लाड़ लड़ाऊं भजन लिरिक्स

मनमोहन तुझे रिझाऊं तुझे नित नए लाड़ लड़ाऊं भजन लिरिक्स

मनमोहन तुझे रिझाऊं, तुझे नित नए लाड़ लड़ाऊं, बसा के तुझे नैनन में, छिपा के तुझे नैनन में।। गीत बन जाऊं तेरी, बांसुरी के स्वर का, इठलाती बलखाती, पतली कमर…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

7 thoughts on “​सांवरी सूरत पे मोहन दिल दीवाना हो गया भजन लिरिक्स”

  1. आपका यहभजन बहुत अच्छा लगा

    Reply

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे