प्रथम पेज प्रकाश माली भजन नान्दीेये पे हो के सवार भोलाजी चले दुल्हा बनके भजन लिरिक्स

नान्दीेये पे हो के सवार भोलाजी चले दुल्हा बनके भजन लिरिक्स

नान्दीेये पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
खाकर धतूरा और भांग,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



नन्दी का घूगरू छम छम बोले,

भोले का डमरु डम डम बोले,
नन्दी का घूगरू छम छम बोले,
भोले का डमरू डम डम बोले,
काँधे पे नाचे कालो नाग,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



भांत भांत का देख बाराती,

सारे नगर में भगदड़ मची,
भांत भांत का देख बाराती,
सारे नगर में भगदड़ मची,
मच गयो हाहाकार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



भोले का असली रूप जो देखी,

गौरा की माता भई अचेती,
भोले का असली रूप जो देखी,
गौरा की माता भई अचेती,
हाथा से छूट गयो थाल,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



नारदजी उठ बोले माता,

है ये सारे जग के विधाता,
नारदजी उठ बोले माता,
है ये सारे जग के विधाता,
गवरा को खुल गयो भाग,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



भोलाजी पहुंचे मंडप माई,

लगन की देखो हुई तैयारी,
भोलाजी पहुंचे मंडप माई,
लगन की देखो हुई तैयारी,
फेरे खाये गवरा के साथ,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



नान्दीेये पे हो के सवार,

भोलाजी चले दुल्हा बनके ,
खाकर धतूरा और भांग,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।

गायक – प्रकाश माली जी & नीताजी नायक।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।