नाभि रे कमल नेजा रोपिया हो राज सूरता ऊँची रे चढे

नाभि रे कमल नेजा रोपिया हो,
राज सूरता ऊँची रे चढे।

दोहा – गुरु बीन्जारा ग्यान का,
और लाया वस्तु अमोल,
सौदागर साचा मिले,
वे ले सीर साठे तोल।



नाभी रे कमल नेजा रोपिया हो,

राज सूरता ऊँची रे चढे,
ऊँचो रे चढे ने नीचे जोवियो हो,
राज भारी भारी खेल करे,
हिरलो रा व्यापारिया हो,
राज मोती ओळख लेना।।



आमी सामी हाटड़ी ओ,

राज वानियो विनज करे,
मन तोला तन ताकड़ी हो,
राज तोलियो खबर पड़े,
हिरलो रा व्यापारिया हो,
राज मोती ओळख लेना।।



सबरण ओरण मोन्डियो हो,

राज हिरलो ऐरन चढे,
माथे घनोने वाला घाव पड़े हो,
राज हिरलो उछो चढे,
हिरलो रा व्यापारिया हो,
राज मोती ओळख लेना।।



नदी रे किनारे दो वाडियो हो,

राज मिर्गो अजब चरे,
बाण पच्चीसों रा ठोकिया हो,
राज मिर्गो यूही मरे,
हिरलो रा व्यापारिया हो,
राज मोती ओळख लेना।।



सोहन वनों रे बीच में हो,

राज हिरलो जगे मगे,
‘माली’ लिखमोजी री वीनती हो,
राज खोजियों खबर पड़े,
हिरलो रा व्यापारिया हो,
राज मोती ओळख लेना।।



नाभि रे कमल नेजा रोपिया हो,

राज सूरता ऊँची रे चढे,
ऊँचो रे चढे ने नीचे जोवियो हो,
राज भारी भारी खेल करे,
हिरलो रा व्यापारिया हो,
राज मोती ओळख लेना।।

प्रेषक – श्रवण सिंह राजपुरोहित।
+91 90965 58244


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

औरा के आंगण काई खेलो म्हारा जिन्द बाबा भजन लिरिक्स

औरा के आंगण काई खेलो म्हारा जिन्द बाबा भजन लिरिक्स

औरा के आंगण काई खेलो, म्हारा जिन्द बाबा, म्हारा आंगणिया में खेलो जी।। दादा जी मनावे थांका, बाबाजी जी मनावे, बनडी बुलावे बेगा बेगा आओ जी, औरां के आंगण काई…

थे कल्लाजी आवोला जग मग दिवला जागेला

थे कल्लाजी आवोला जग मग दिवला जागेला

थे कल्लाजी आवोला, जग मग दिवला जागेला, गोडलिया रे वारा आवोला।। केसरिया साफा सोवेला, हाथ में खंडो सोवेला, गोडलिया रे वारा आवोला, गोडलिये सड़ आवोला, भगताने दर्शन देवोला, बेरण माई…

प्रथम देव गणेश मनावु पछे विष्णु देवा भजन लिरिक्स

प्रथम देव गणेश मनावु पछे विष्णु देवा भजन लिरिक्स

प्रथम देव गणेश मनावु, पछे विष्णु देवा हा। दोहा – संगत किजे संत री, क्या नुगरा से काम, नुगरा ले जावे नारगी, संत मिलावे राम। प्रथम देव गणेश मनावु, पछे…

मनवा राखेनी विश्वास रामजी ने भूले काई रे लिरिक्स

मनवा राखेनी विश्वास रामजी ने भूले काई रे लिरिक्स

मनवा राखेनी विश्वास, रामजी ने भूले काई रे।। नव दस मास गर्भ में भाई, आपत आयी रे, नव दस मास गर्भ मे भाई, आपत आयी रे, जनमीयो पेला दूध तनावे,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे