खीर बनवा दो मिश्री मावा में पितृ भजन लिरिक्स

खीर बनवा दो,
मिश्री मावा में,
छम छम बाज घूघरा,
पितरा का पा़वा में।।



करल्यो मन की साफ सफाई,

होवे नितका शुद्ध कमाई,
नुतो दै दरों गांवा गांवा म,
छम छम बाज घूघरा,
पितरा का पा़वा में।।



रात जगाओं थे चौदस की,

भोजन बनादयो कोई रस को,
लार ले लो समुन्द की नांवा न,
छम छम बाज घूघरा,
पितरा का पा़वा में।।



बेहन बुआ ने नुत बुलाओ,

भगतां सु रात जगावां,
कमी मत छोड़ो थै उछावां म,
छम छम बाज घूघरा,
पितरा का पा़वा में।।



यो भगवान सहाय छ ज़िद्दी,

उनका घर म रिद्धि सिद्धि,
ख़र्च होंबा द उछावां म,
छम छम बाज घूघरा,
पितरा का पा़वा में।।



खीर बनवा दो,

मिश्री मावा में,
छम छम बाज घूघरा,
पितरा का पा़वा में।।

प्रेषक – धर्म चन्द नामा ( नामा म्युजिक)
9887223297


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

बालाजी थे तो पर्वत जाईज्यो सा आता तो लावज्यो संजीवन बूटी

बालाजी थे तो पर्वत जाईज्यो सा आता तो लावज्यो संजीवन बूटी

बालाजी थे तो पर्वत जाईज्यो सा, अंजनी के लाला पर्वत जाईज्यो सा, आता तो लावज्यो संजीवन बूटी।। तर्ज – बाला सा थाने कोण सजाया जी। प्रभु जी मेतो कोनी जाणा…

श्री भेरूजी री कथा प्रथम भाग लिरिक्स

श्री भेरूजी री कथा प्रथम भाग लिरिक्स

श्री भेरूजी री कथा प्रथम भाग, भाईडा सिवरू सुण्डाला गणपत देव, बीरूडा सिवरू सुण्डाला गणपत देव, रिद्धि सिद्धी ले वेगा आवजो रे जियो, अरे भाईडा सिवरू मै तो सरस्वती मात,…

लाल पीली चुनरिया म्हारा माताजी ने सोवे सा

लाल पीली चुनरिया म्हारा माताजी ने सोवे सा

लाल पीली चुनरिया, म्हारा माताजी ने सोवे सा, पवन हिलोरा खाय, पवन हिलोरा खाय म्हारा माताजी, पवन हिलोरा खाय।। माथा माई रखडी, माताजी ने सोवे सा, पवन हिलोरा खाय, पवन…

जियो के माता मोटी है जगदम्बा देवी नागाणा री राय

जियो के माता मोटी है जगदम्बा देवी नागाणा री राय

जियो के माता मोटी है जगदम्बा, देवी नागाणा री राय, के दर्शन करलो सगला जाय, ओ माता नागनेची रो परचो भारी, इन कलयुग रे माय, के दर्शन करलो सगला जाय।।…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे