तूने किया ना हरि से प्यार भजन लिरिक्स

तूने किया ना हरि से प्यार,
सारा जीवन दीन्हा गुज़ार,
तेरी ये नादानी है ओ रे मनवा,
तेरी ये कहानी है ओ रे मनवा।।

तर्ज – आने से उसके।



तुमने पाया जो तन,

फिर न पाओगे प्यारे,
तेरा हीरा जीवन,
बीता जाता है सारा का सारा,
माया में रे काहे रे,
तू लिपटlनी है ओ रे मनवा,
तेरी ये कहानी है ओ रे मनवा।।



तेरे दुख का कारण,

तेरी प्रभु के प्रति बेरुखी है,
जो प्रभु के रंग में रंग गया,
तो वो ही सुखी है,
समझा न जो उसको,
वो अज्ञानी है ओ रे मनवा,
तेरी ये कहानी है ओ रे मनवा।।



अरे कर्म कर तू ऐसे,

जिससे सुधरे ये जीवन तुम्हारा,
अरे जन्म और मरण से,
मिल जाएगा रे छुटकारा,
‘राजेन्द्र’ की बात नही,
संतो की बानी है ओ रे मनवा,
तेरी ये कहानी है ओ रे मनवा।।



तूने किया ना हरि से प्यार,

सारा जीवन दीन्हा गुज़ार,
तेरी ये नादानी है ओ रे मनवा,
तेरी ये कहानी है ओ रे मनवा।।

गायक / गीतकार – राजेन्द्र प्रसाद सोनी।
8839262340


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें