तु राजा की राजदुलारी मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ लिरिक्स

तु राजा की राजदुलारी,
मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ,
भांग रगड़ के पिया करू मैं,
कुन्डी सोटे वाला हूँ,
तु राजा की राज दूलारी,
मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ।।



सो सो दासी दास पेरे पे,

एक भी दासी रे दास नही,
तु हरीये बागा की रे कोयल,
बरफ पडे हरी घास नहीं,
जाम रछावे तेरा जी रमजावे बटे,
चोपड सतरंग पासा नहीं,
तु मांगे गी साल दुसाले,
कम्बल तक मेरे पास नहीं,
एक कमंडल एक कटोरा,
मोटे रे लोटे वाला हु,
भांग रगड़ के पिया करू मैं,
कुन्डी सोटे वाला हूँ,
तु राजा की राज दूलारी,
मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ।।



दूरदर्शनी बाबा हूँ मैं,

राक देख के डर जागी,
मज धुणे के बीच तपु मेरी,
आग देख के डर जागी,
सो सो नाग पडे मेरे गले में,
नाग देख के डर जागी,
राक गोल के पिया मेरी,
भाग देख के डर जागी,
तु राजा हिमाचल जाई,
मे नीरधन टोटे वाला हु,
भांग रगड़ के पिया करू मैं,
कुन्डी सोटे वाला हूँ,
तु राजा की राज दूलारी,
मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ।।



ग्रहस्ती वाला सुख चाहिए तो,

सदा रे फरारी रया करू,
मेहला बीच में रेण वाली तू,
समसाणा मे बास करू,
तर तर के मांगे रे भोजन,
पेट पुजारी रया करू,
पालकीया मे गुमण वाली,
बिना सवारी रया करू,
जुलफो वाला वर चाहिए तने,
लम्बे रे चोटे वाला हु,
भांग रगड़ के पिया करू मैं,
कुन्डी सोटे वाला हूँ,
तु राजा की राज दूलारी,
मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ।।



अब फेर कहुँ या पारवती,

मेरा ब्याव करणा ठीक नहीं,
सीर पर गंगा मुख पे चंदरमा,
मोड बंदाणा ठीक नहीं,
अब सुलफे वो गांजा,
रोज पीवणीये ने,
दुध पिलाणा ठीक नहीं,
भसमी रमावणीये के तन पे,
तेल चडाणा ठीक नहीं,
मांगे रंग तु बोज मरेगी,
जबर बरोटे वाला हु,
भांग रगड़ के पिया करू मैं,
कुन्डी सोटे वाला हूँ,
तु राजा की राज दूलारी,
मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ।।



तु राजा की राजदुलारी,

मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ,
भांग रगड़ के पिया करू मैं,
कुन्डी सोटे वाला हूँ,
तु राजा की राज दूलारी,
मैं सिरफ लंगोटे वाला हूँ।।

प्रेषक – નારાયણ જાંગીડ
9413344064


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

नाडोलगढ़ में मोटा बनीया धाम भजन लिरिक्स

नाडोलगढ़ में मोटा बनीया धाम भजन लिरिक्स

नाडोलगढ़ में मोटा बनीया धाम, दोहा – नाडोल नगरी देवरो, माँ आशापुरा रो धाम, सिंह असवारी आप बिराजीया, मारी जगदम्बा मम माँ। जगमग ज्योता जागती। ए मैया थारोडे दरबार, आस…

शान्तिनाथजी कह गये बीरा भजन लिरिक्स

शान्तिनाथजी कह गये बीरा भजन लिरिक्स

शान्तिनाथजी कह गये बीरा, सब भक्ता ने कईजो रे, जालौरी पीरजी कह गये बीरा, सब भक्ता ने कईजो रे, अरे नाथजी री मंशा भईया, पीरजी मंशा भईया थे, सुण लिजो…

दर्शन देवो ने आय गुरुवर म्हारा खेतेश्वर महाराज

दर्शन देवो ने आय गुरुवर म्हारा खेतेश्वर महाराज

दर्शन देवो ने आय, गुरुवर म्हारा खेतेश्वर महाराज, दर्शन करियासु थारा, दुखड़ा मिटेला म्हारा, पूरण हो मनकी आशा रे।। पुरोहित कुल रे माये, ओ ब्राह्मण देवा, धवला तो वेश धारिया,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे