तू बांह पकड़ ले बाबा मेरा मन घबरावे रे भजन लिरिक्स

तू बांह पकड़ ले बाबा,
मेरा मन घबरावे रे,
तू लीले चढ़ के आजा,
तेरा लाल बुलावे रे,
तू बाँह पकड़ ले बाबा।।

तर्ज – आ जाओ भोले बाबा।



दुनिया ने इतना सताया,

मैं हार गया बाबा,
सुनकर के तेरी महिमा,
तेरे द्वार गया बाबा,
तेरे दर्शन को मेरी अँखियाँ,
रो रो नीर बहावे रे,
तू लीले चढ़ के आजा,
तेरा लाल बुलावे रे,
तू बाँह पकड़ ले बाबा।।



मेरी फसी भवर में नैया,

हिचकोले खावे रे,
बिन मांझी के ओ सांवरे,
कुण पार लगावे रे,
अपने भक्तों के दुखड़े,
सब दूर भगावे रे
तू लीले चढ़ के आजा,
तेरा लाल बुलावे रे,
तू बाँह पकड़ ले बाबा।।



हारे का बना सहारा,

मेरा लीले वाला श्याम,
‘वंदना’ की अर्ज़ी यही है,
मुझे रख लो खाटू धाम,
तेरे दर पे जो भी आवे,
वो मौज उड़ावे रे,
तू लीले चढ़ के आजा,
तेरा लाल बुलावे रे,
तू बाँह पकड़ ले बाबा।।



तू बांह पकड़ ले बाबा,

मेरा मन घबरावे रे,
तू लीले चढ़ के आजा,
तेरा लाल बुलावे रे,
तू बाँह पकड़ ले बाबा।।

Singer & Writer – Vandana Arora Gandhi


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें