तेरी भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी श्याम भजन लिरिक्स

तेरी भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी,
हम पे नजर जब बाबा की पड़ेगी,
तेरीं भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी।।

तर्ज – राम जी करेंगे ना तो श्याम जी।



धन और धान से झोलियाँ भरेगा,

बिना बोले काम सांवरिया करेगा,
लख चौरासी तेरी पल में कटेगी,
लख चौरासी तेरी पल में कटेगी,
तेरीं भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी,
हम पे नजर जब बाबा की पड़ेगी,
तेरीं भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी।।



शान है निराली बाबा लखदातार की,

रखता है लाज बाबा सारे संसार की,
मौज तू करेगा जब आँख ये लड़ेगी,
मौज तू करेगा जब आँख ये लड़ेगी,
तेरीं भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी,
हम पे नजर जब बाबा की पड़ेगी,
तेरीं भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी।।



भक्तो की बात बाबा श्याम ने बनाई है,

दुनिया में एक साथी श्याम कन्हाई है,
आएगा जरुरत जब तुझको पड़ेगी,
आएगा जरुरत जब तुझको पड़ेगी,
तेरीं भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी,
हम पे नजर जब बाबा की पड़ेगी,
तेरीं भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी।।



तेरी भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी,

हम पे नजर जब बाबा की पड़ेगी,
तेरीं भी बनेगी बात मेरी भी बनेगी।।

स्वर – कन्हैया मित्तल जी।


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें