तेरे संग मैं खड़ा रहा कृष्ण भजन लिरिक्स

होके परेशां ऐसे क्यों,
आंसू बहा रहा,
कब तू अकेला था,
तेरे संग मैं खड़ा रहा,
होके परेशां ऐसे क्यों,
आंसू बहा रहा।।

तर्ज – लग जा गले।



माना की मुझको आने में,

कुछ देर हो गई,
पर ना समझ तू ये कभी,
अंधेर हो गई,
साया मेरा है तेरे संग,
तू जहाँ जहाँ चला,
कब तू अकेला था,
तेरे संग मै खड़ा रहा,
होके परेशां ऐसे क्यों,
आंसू बहा रहा।।



विश्वास का है नाता ये,

कमज़ोर तू ना हो,
छोड़ूँ ना साथ तेरा मैं,
कोई और हो ना हो,
तू भी निभाना जैसे मैं,
तुझको निभा रहा,
कब तू अकेला था,
तेरे संग मै खड़ा रहा,
होके परेशां ऐसे क्यों,
आंसू बहा रहा।।



चारों पहर ही आएंगे,

ये ही विधान है,
रातों के बीत जाने पे,
रोशन जहान है,
‘राघव’ ये सीख है तुझे,
जो मैं सिखा रहा,
कब तू अकेला था,
तेरे संग मै खड़ा रहा,
होके परेशां ऐसे क्यों,
आंसू बहा रहा।।



होके परेशां ऐसे क्यों,

आंसू बहा रहा,
कब तू अकेला था,
तेरे संग मैं खड़ा रहा,
होके परेशां ऐसे क्यों,
आंसू बहा रहा।।

Singer – Durga Gamad


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें