तारा है सारा जमाना श्याम हम को भी तारो भजन लिरिक्स

तारा है सारा जमाना,
श्याम हम को भी तारो,
हम को भी तारो श्याम,
हम को भी तारो,
तारा हैं सारा जमाना,
श्याम हम को भी तारो।।



हम ने सुना है श्याम,

मीरा को तारा,
वीणा का कर के बहाना,
श्याम हम को भी तारो,
तारा हैं सारा जमाना,
श्याम हम को भी तारो।।



हमने सुना है श्याम,

द्रोपदी को तारा,
चीर का कर के बहाना,
श्याम हम को भी तारो,
तारा हैं सारा जमाना,
श्याम हम को भी तारो।।



हमने सुना है श्याम,

अर्जुन को तारा,
गीता का कर के बहाना,
श्याम हम को भी तारो,
तारा हैं सारा जमाना,
श्याम हम को भी तारो।।



हमने सुना है श्याम,

प्रहलाद को तारा,
खम्बे का कर के बहाना,
श्याम हम को भी तारो,
तारा हैं सारा जमाना,
श्याम हम को भी तारो।।



हमने सुना है श्याम,

केवट को तारा,
नौका का कर के बहाना,
श्याम हम को भी तारो,
तारा हैं सारा जमाना,
श्याम हम को भी तारो।।



तारा है सारा जमाना,

श्याम हम को भी तारो,
हम को भी तारो श्याम,
हम को भी तारो,
तारा हैं सारा जमाना,
श्याम हम को भी तारो।।

स्वर – कुमार विशु।


2 टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें