शेरों का दल राजस्थान गीत लिरिक्स

शेरों का दल राजस्थान,

दोहा – जननी जने तो ऐडा जण,
के दाता के सुर,
नई तर रइजे बांजडी,
माँ मती गमाजे नूर।



इधर पद्मिनी दर्पण देखें,

उधर वो खिलजी जी मूर्छित हो,
जहां हुमायूं लाज बचाने,
बहना की आकर्षित हो,
चंदन का बलिदान जहां पर,
कर देती माताएं हो,
इस माटी का कण कण गाता,
जोहर की गाथाएं हो,
गोरा बादल राजस्थान,
शेरों का दल राजस्थान,
चौड़ी छाती राजस्थान,
सबसे न्यारा राजस्थान।।



महाराणा को देख स्वप्न में,

अकबर भी डर जाता हो,
स्वामी भक्त चेतक प्राणों को,
न्यौछावर कर जाता हो,
भक्त मई मीरा भजनों में,
प्रेम सुधा भर देती हो,
हाड़ी रानी जहां निशानी,
शीश काट कर देती हो,
वीर सलंबर राजस्थान,
चौड़ी छाती राजस्थान,
हल्दीघाटी राजस्थान,
सबसे न्यारा राजस्थान।।



आन बान और मर्यादा की,

पानीदार कहानी है,
प्राण जाए पर वचन न जाए,
राजस्थानी पानी है,
पति की अर्थी को कंधा,
क्षत्राणी ही दे सकती है,
परमाणु विस्फोट यहां की,
धरती ही सह सकती है,
बोला कण-कण राजस्थान,
थारा मारा राजस्थान,
वीर सलंबर राजस्थान,
चौड़ी छाती राजस्थान।।

गायक / प्रेषक – देव शर्मा आमा।
8290376657


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

काया नगर रे बीच में रे लेहरीया लंबा पेड खजूर भजन लिरिक्स

काया नगर रे बीच में रे लेहरीया लंबा पेड खजूर भजन लिरिक्स

काया नगर रे बीच में रे, लेहरीया लंबा पेड खजूर, चढे तो मेवा चाकले रे, चढे तो मेवा चाकले रे, पडे तो चकनाचूर, भजन मे सुभरमना रे, लेहरीया हरी सु…

रूणिचा खुडियावास माई बाबो रामदेव जी विराजे रै

रूणिचा खुडियावास माई बाबो रामदेव जी विराजे रै

रूणिचा खुडियावास माई, बाबो रामदेव जी विराजे रै। दोहा – गांव रूणिचाँ रै माईने, बाबा रो मंन्दिर जोर, मनोहर आयो थारै देवरे, म्हारो दुखडो मिटाज्यो ओर। झांलर शंख नगारा बाजै…

धजाबन्द मैं नौकर हूँ थाको रामदेवजी भजन लिरिक्स

धजाबन्द मैं नौकर हूँ थाको रामदेवजी भजन लिरिक्स

धजाबन्द मैं नौकर हूँ थाको, अन्नदाता ईतरी भूल कांई राखो, धजबन्द मैं नौकर हूँ थाको।। गवरी रा नन्द गणेश ने सिंवरू, हिरदे उजियालो राखो, रिद्धि सिद्दी रा खोलो भंडारा, कमी…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे