सतरी संगत म्हाने दीजो रे गुरूजी भजन लिरिक्स

सतरी संगत म्हाने दीजो रे गुरूजी,

दोहा – संत हमारी आत्मा,
ने मै संतन की देह,
रोम रोम में रमरया,
प्रभु ज्यु बादल मे मेष।

सतरी संगत म्हाने दीजो रे गुरूजी,
साध संगत म्हाने दीजो जी,
बार बार म्हारी आ है विनती,
आ किरपा कर दीजो जी,
सतरी संगत म्हानें दीजो गुरूजी,
साध संगत म्हाने दीजो जी।।



सतरी संगत मे ब्रह्म जावे,

बडा बडा ऋषि राही जी,
सतरी संगत मे ब्रह्म जावे,
बडा बडा ऋषि राही जी,
अरे जो सुख है सतरी संगत मे,
वो सुख स्वर्गा नाही जी,
जो सुख है सतरी संगत मे,
वो सुख स्वर्गा नाही जी।
सतरी संगत म्हानें दीजो गुरूजी,
साध संगत म्हाने दीजो जी।।



माता साध पिता मेरा साधु,

साधो रे बीच डोलु जी,
माता साध पिता मेरा साधु,
साधो रे बीच डोलु जी,
भोजन भाव करूँ साधो संग,
साधो रे मुख बोलु जी,
भोजन भाव करू साधो संग,
साधो रे मुख बोलु जी,
सतरी संगत म्हानें दीजो गुरूजी,
साध संगत म्हाने दीजो जी।।



आनंद रूप सदा मन व्यापे,
सदा आनंद मे झुलु जी,
आनंद रूप सदा मन व्यापे,
सदा आनंद मे झुलु जी,
अरे पल पल करू विनती थाने,
नाम घडी नही भूलू जी,
पल पल करू विनती थाने,
नाम घडी नही भूलू जी,
सतरी संगत म्हानें दीजो गुरूजी,
साध संगत म्हाने दीजो जी।।



निर्मल नैन वेन ज्यारा,

निर्मल निर्मल सारा अंगा रे,
निर्मल नैन वेन ज्यारा,
निर्मल निर्मल सारा अंगा रे,
अरे सूर कहे किरपा कर दीजो,
उन संतो रा संगा जी,
सूर कहे किरपा कर दीजो,
उन संतो रा संगा जी,
सतरी संगत म्हानें दीजो गुरूजी,
साध संगत म्हाने दीजो जी।।



सतरी संगत म्हाने दीजो रे गुरूजी,

साध संगत म्हाने दीजो जी,
बार बार म्हारी आ है विनती,
आ किरपा कर दीजो जी,
सतरी संगत म्हानें दीजो गुरूजी,
साध संगत म्हाने दीजो जी।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


https://youtu.be/t3vt8Iocgi0

इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

भई रे राखजो मनडा में विश्वास मिलेला थाने राम धणी

भई रे राखजो मनडा में विश्वास मिलेला थाने राम धणी

भई रे राखजो मनडा में विश्वास, मिलेला थाने राम धणी, भई रे राखजो मनडा मे विशवास, मिलेला थाने राम धणी, ओ भई रे सिवरू मै दिन ने रात, मिलेला थाने…

आज मोहे काम जरूरी लंका में जावण दे लिरिक्स

आज मोहे काम जरूरी लंका में जावण दे लिरिक्स

आज मोहे काम जरूरी, लंका में जावण दे, आज मेरे काम जरुरी, लंका में जावण दे।। रामचन्द्र घर सीता नारी, हर ले गयो रावण बलकारी, उसको कहूं मेरी माता री,…

नेडा नेडा रेजो दूर मती जईजो मारवाड़ी भजन लिरिक्स

नेडा नेडा रेजो दूर मती जईजो मारवाड़ी भजन लिरिक्स

नेडा नेडा रेजो दूर मती जईजो, लागोड़ी प्रीत निभाइजो मारा, कृष्ण कन्हइया रे, लागोड़ी प्रीत निभाइजो मारा, नागर नंदा रे।। सब देवा रे मय आप बड़े हो, ज्यूँ तारा रे…

मैया भटियाणी कहलावे थारो गाँव गाँव जश गावे

मैया भटियाणी कहलावे थारो गाँव गाँव जश गावे

मैया भटियाणी कहलावे, थारो गाँव गाँव जश गावे, मैया भटियाणी कहलावें, थारो गाँव गाँव जश गावे, ओ म्हारा माजीसा ओ, थारे चरना मे सारा सुख पावे, थारा चरना मे सारा…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “सतरी संगत म्हाने दीजो रे गुरूजी भजन लिरिक्स”

  1. सुनकर मन इतना प्रसन्न हुआ कि ऐसे ही और सुनते रहे | धन्यवाद|

    Reply

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे