लख लख दीवला री आरती माँ आशापुरा

लख लख दीवला री,
ए आरती माँ,
सेरी ए रमती आय,
रमती जगती ए आरती माँ,
नाडोल नगरी माय,
लख लख दिवला री,
ए आरती माँ,
नाडोल नगरी माय।।



हे ढोल बाजे ए आरती माँ,

भूम भोमिया छिडकाय,
ढोल बाजे ए आरती माँ,
भूम भोमिया छिडकाय,
आरती मे ए आवजो माँ,
गरबे रमती आव,
आरती मे ए आवजो माँ,
गरबे रमती आव,
लख लख दिवला री,
ए आरती माँ,
सेरी ए रमती आय।।



शेरावाली ए मावडी माँ,

आशापुरी मेरी माँ,
हे शेरावाली ए मावडी माँ,
आशापुरी मेरी माँ,
वेगा वेगा ए आवजो माँ,
आरतीया रे माय,
वेगा वेगा ए आवजो माँ,
आरतीया रे माय,
लख लख दिवला री,
ए आरती माँ,
सेरी ए रमती आय।।



लाल चुनडीया ए मावडी ने,

लावा मै तो आज,
लाल चुनडीया ए मावडी ने,
लावा मै तो आज,
सिर पर रखडी ए नाक में नथडी,
गले नवलखीयो हार,
सिर पर रखडी ए नाक में नथडी,
गले नवलखीयो हार,
लख लख दिवला री,
ए आरती माँ,
सेरी ए रमती आय।।



हे हाथा चुडलो ए मावडी रे,

नखल्या लाल गुलाल,
हाथा चुडलो ए मावडी रे,
नखल्या लाल गुलाल,
हे आरती मे ए आप पधारो,
कर सोलह सिन्गार,
आरती मे ए आप पधारो,
कर सोलह सिन्गार,
लख लख दिवला री,
ए आरती माँ,
सेरी ए रमती आय।।



हे नाडोल नगरी मे आरती माँ,

करे घणा नर नार,
नाडोल नगरी में आरती माँ,
करे घणा नर नार,
हे सांझ सवेरे हे आरती,
माँ आशापुरी रे द्वार,
सांझ सवेरे आरती,
माँ आशापुरी रे द्वार,
लख लख दिवला री,
ए आरती माँ,
सेरी ए रमती आय।।



लख लख दीवला री,

ए आरती माँ,
सेरी ए रमती आय,
रमती जगती ए आरती माँ,
नाडोल नगरी माय,
लख लख दिवला री,
ए आरती माँ,
नाडोल नगरी माय।।

गायक – श्याम पालीवाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें