सासरिया को गाँव बतादे तेजाजी भजन लिरिक्स

सासरिया को गाँव बतादे,
सुसराजी को नाम बतादे,
आज सासरिये जाऊँलो,
भावजडी नर लार पदमनि,
पगल्या न दबवाउलो।।



कुण मैया मारी करी सगाई,

कुण संग म्हाने परणाई,
ऊका हाथ का फलकाखाउँला,
भावजडी नर लार पदमनि,
पगल्या न दबवाउलो।।



भाभीजी म्हाने तानो मारी,

जार लिया परणेडी थारी,
तुजार माजणो आवलो,
भावजडी नर लार पदमनि,
पगल्या न दबवाउलो।।



आज कयाँ तो ले रियो हेरा,

थारो सासरो शहर पनेरा,
उँका हाथ का फलका खाँऊला,
भावजडी नर लार पदमनि,
पगल्या न दबवाउलो।।



बोल हिया क पार निकलग्या,

ये मालुणी गैला पडग्या,
म छतरी सर मंडवाऊलो,
भावजडी नर लार पदमनि,
पगल्या न दबवाउलो।।



सासरिया को गाँव बतादे,

सुसराजी को नाम बतादे,
आज सासरिये जाऊँलो,
भावजडी नर लार पदमनि,
पगल्या न दबवाउलो।।

प्रेषक – धरम चन्द नामा।
(नामा म्युजिक) 9887223296


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें