प्रथम पेज राजस्थानी भजन अटक्योड़ा कारज सारो जी गौरी पुत्र गणेश भजन लिरिक्स

अटक्योड़ा कारज सारो जी गौरी पुत्र गणेश भजन लिरिक्स

अटक्योड़ा कारज सारो जी,
गौरी पुत्र गणेश,
गौरी पुत्र गणेश गजानंद,
गौरी पुत्र गणेश,
अटक्योंड़ा कारज सारो जी,
गौरी पुत्र गणेश।।



माँ पारवती का प्यारा,

शिव शंकर लाल दुलारा,
म्हारी नैया पड़ी मझधारा,
ल्यावो शुभ सन्देश,
ल्यावो शुभ सन्देश गजानंद,
ल्यावो शुभ सन्देश,
अटक्योंड़ा कारज सारो जी,
गौरी पुत्र गणेश।।



थे ऊँचे आसान बैठो,

भक्ता से कदे ना रूठो,
थारे मूसे की असवारि,
थाने ध्यावे भगवा भेष,
ध्यावे भगवा भेष गजानंद,
ध्यावे भगवा भेष,
अटक्योंड़ा कारज सारो जी,
गौरी पुत्र गणेश।।



थाने दास मोतीसिंह गावे,

चरना मे शीश झुकावे,
म्हारी नैया करो भव पारा जी,
गौरी पुत्र गणेश,
अटक्योंड़ा कारज सारो जी,
गौरी पुत्र गणेश।।



अटक्योड़ा कारज सारो जी,

गौरी पुत्र गणेश,
गौरी पुत्र गणेश गजानंद,
गौरी पुत्र गणेश,
अटक्योंड़ा कारज सारो जी,
गौरी पुत्र गणेश।।

Singer – Shree Navratna Giri Ji Maharaj
Upload By – Himalay Joriwal


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।