बाबा खेउँ गूगलियो धूप कँवर सा अजमल रा भजन लिरिक्स

बाबा खेउँ गूगलियो धूप,
कँवर सा अजमल रा,
आरतियों री बेला,
बेगा आवजो हे हा।।



पहला पोरे री बात,

कँवर सा अजमल रा,
माता रे मैणादे उतारे आरती हे हा।।



बीजे पोरे री बात,

कँवर सा अजमल रा,
बेन रे सुगणा उतारे आरती हे हा।।



होय घोड़े असवार,

कँवर सा अजमल रा,
आरतियों री बेला बेगा आवजो हे हा।।



तीजे पोरे री बात,

कँवर सा अजमल रा,
राणी आ नेतल उतारे आरती हे हा।।



चौथे पोरे री बात,

कँवर सा अजमल रा,
बाई रे डाली उतारे आरती हे हा।।



होय घोड़े असवार,

कँवर सा अजमल रा,
आरतियों री बेला बेगा आवजो हे हा।।



बोलियां रावळ जी रा नार,

कँवर सा अजमल रा,
गावे रूपादे नार,
कँवर सा अजमल रा.
म्हाने जुग जुग चरणों में,
राख कँवर सा अजमल रा,
आरतियों री बेला बेगा आवजो हे हा।।



बाबा खेउँ गूगलियो धूप,

कँवर सा अजमल जी रा,
आरतियों री बेला,
बेगा आवजो हे हा।।

प्रेषक – रामेश्वर लाल पँवार।
आकाशवाणी सिंगर।
9785126052


https://youtu.be/QXF8Z_slqJo?t=120

इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

घूंगरीया घमकाता भेरूजी दौड्या आवे भजन लिरिक्स

घूंगरीया घमकाता भेरूजी दौड्या आवे भजन लिरिक्स

जद जद कलयुग माई, भक्त पुकार लगावे, जद जद कलयुग माई, भक्त पुकार लगावे, घूंगरीया घमकाता, भेरूजी दौड्या आवे, घूगरीया घमकाता, भेरूजी दौड्या आवे।। तर्ज – समय को भरोसो कोणी।…

थारी जोत जगे घर घर में सुबह शाम बालाजी लिरिक्स

थारी जोत जगे घर घर में सुबह शाम बालाजी लिरिक्स

थारी जोत जगे घर घर में, सुबह शाम बालाजी, सारी दुनिया में गूंज रह्यो है, थारो नाम बालाजी, सारी दुनिया में गूंज रह्यो है, थारो नाम बालाजी।। अंजनी माँ रा…

उज्जैन नगरी में बैठ्यो पिये मद प्याला लिरिक्स

उज्जैन नगरी में बैठ्यो पिये मद प्याला लिरिक्स

काशी विश्वनाथ महादेव, को तू भैरू मतवाला, उज्जैन नगरी में बैठ्यो, पिये मद प्याला।। ब्रम्हा विष्णु शिवजी में कुछ, चाल रह्यो संवाद, कुण बड़ो कुण छोटो, तिन्या में सु कर्या…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे