लाल सिंघा पे खेल रही मैया मेरी भजन लिरिक्स

लाल सिंघा पे खेल रही,
मैया मेरी।।



कंगना मुंदरी बुहटा पहने,

हाथ खप्पर ले खेल रही,
मैया मेरी।।



लट बिखराये मचल रही मैया,

जीभ लालइ निकाल रही,
मैया मेरी।।



खप्पर खड्ग लये हैं मैया,

नयना लालइ निकाल रही,
मैया मेरी।।



लाल सिंघा पे खेल रही,

मैया मेरी।।

गीतकार/गायक – राजेन्द्र प्रसाद सोनी।
8839262340


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

तू माँ शहंशाहो की शहंशाह मैं गरीबो से भी गरीब हूँ भजन लिरिक्स

तू माँ शहंशाहो की शहंशाह मैं गरीबो से भी गरीब हूँ भजन लिरिक्स

तू माँ शहंशाहो की शहंशाह, मैं गरीबो से भी गरीब हूँ, तेरे हाथो ने लिखी किस्मतें, जो ना बन सका मैं नसीब हूँ, तू माँ शहंशाहो की शहंशाह।। तेरा हर…

माँ ज्योतावाली का सुमिरन होगा भजन लिरिक्स

माँ ज्योतावाली का सुमिरन होगा भजन लिरिक्स

माँ ज्योतावाली का, सुमिरन होगा, पावन ह्रदय का, कण कण होगा, प्यारा प्यारा सुंदर, अपना जीवन होगा, माँ जोतावाली का, सुमिरन होगा, पावन ह्रदय का, कण कण होगा।। तर्ज –…

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी भजन लिरिक्स

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी मनीष तिवारी भजन लिरिक्स

ज्योत जगा के, सर को झुका के, मैं मनाऊंगी, दर पे आउंगी, मैं शीश झुकाऊँगी, माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी, माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।। संतो महंतो को…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “लाल सिंघा पे खेल रही मैया मेरी भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे