रामसा लीले चढे ने वेगा आवजो राजस्थानी भजन

रामसा लीले चढे ने वेगा आवजो ।
रामसा लीले चढे ने वेगा ।।
पीरजी लीले चढे ने वेगा आवजो , 
थारा टाबरिया उरीखे थारी बाट 
बावजी लीले चढे ने वेगा आवजो



पीरजी पापी भैरूडा वेगीया मोकला ।

थारा भक्ता ने करे रे परेशान ।।
रामसा लीले चढे ने वेगा आवजो ,
थारा भक्त उरीखे थारी बाट 
बावजी लीले चढे ने वेगा आवजो



पीरजी पग पग पे पोरो छायो पाप रो ।

इन पापिया ने पछाडणं वेगा आव ।।
रामसा लीले चढे ने वेगा आवजो , 
थारा भक्त उरीखे थारी बाट 
बावजी लीले चढे ने वेगा आवजो



रामसा झूठ चाले है जग में जोर को ।

पीरजी सासा तो मीनका रो पडियो काल ।।
रामसा लीले चढे ने वेगा आवजो , 
थारा भक्त उरीखे थारी बाट 
बावजी लीले चढे ने वेगा आवजो



रामसा भाई रो भाई वैरी हो गयो ।

रामसा पासो लेवो कलजुग में अवतार ।।
रामसा लीले चढे ने वेगा आवजो , 
थारा भक्त उरीखे थारी बाट 
बावजी लीले चढे ने वेगा आवजो



रामसा लखन भक्त बालक आकरो ।

मैं तो सुनी जेडी बात बतलाऊ ।।
रामसा लीले चढे ने वेगा आवजो , 
थारा भक्त उरीखे थारी बाट 
बावजी लीले चढे ने वेगा आवजो



“श्रवण सिंह राजपुरोहित द्वारा प्रेषित”

सम्पर्क : +91 9096558244

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें